Sports

अबुधाबी : इंग्लैंड के सीमित ओवरों के कप्तान इयोन मोर्गन ने कहा कि न्यूजीलैंड के खिलाफ टी20 विश्व कप सेमीफाइनल में हार के बाद टीम ‘टूट' गई थी लेकिन उन्हें ‘अविश्वसनीय' टक्कर देने पर गर्व है। मोर्गन ने साथ ही उम्मीद जताई कि वह टीम की कमान संभालते रहेंगे। न्यूजीलैंड ने इंग्लैंड के खिलाफ 2019 एकदिवसीय विश्व कप फाइनल में दिल तोड़ने वाली हार का बदला लेते हुए बुधवार को यहां टी20 विश्व कप सेमीफाइनल में इसी टीम को पांच विकेट से हराया। 

मोर्गन ने मैच के बाद प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘हां, हम टूट गए थे। करीबी मैच में हार से उबरना आसान नहीं होता। हमने ऐसे विकेट पर अविश्वनीय रूप से अच्छी टक्कर दी जो हमारी बल्लेबाजी के अनुकूल नहीं था लेकिन हम प्रतिस्पर्धी स्कोर बनाने या इसके करीब पहुंचने में सफल रहे।' उन्होंने कहा, ‘हमने जो प्रदर्शन किया उस पर हमें बेहद गर्व है। अच्छा प्रदर्शन करने के बावजूद गारंटी नहीं है कि आप हमेशा जीत दर्ज करो। दुर्भाग्य से आज हमें बेहद करीबी मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा।' 

वर्ष 2014 से इंग्लैंड की टी20 टीम की अगुआई कर रहे 35 साल के मोर्गन ने कहा, ‘मुझे (कप्तान के रूप में) वापसी की उम्मीद है, मैं अब भी पर्याप्त योगदान दे रहा हूं और मुझे इस टीम के साथ खेलना पसंद है। उनका कप्तान होने पर बेहद गर्व है।' इंग्लैंड ने टॉस हारने के बाद पहले बल्लेबाजी करते हुए मोईन अली के नाबाद 51 रन की बदौलत चार विकेट पर 166 रन बनाए। न्यूजीलैंड ने हालांकि एक ओवर शेष रहते लक्ष्य हासिल कर लिया। सलामी बल्लेबाज डेरिल मिशेल ने 47 गेंद में 72 रन की पारी खेली जबकि जेम्स नीशाम ने 11 गेंद में एक चौके और तीन छक्के से 27 रन बनाए। 

मोर्गन ने कहा कि नीशाम के क्रीज पर उतरने तक इंग्लैंड की टीम मैच में बनी हुई थी लेकिन इस आलराउंडर ने मैच का रुख पूरी तरह से बदल दिया और मुश्किल पिच पर ऐसे शॉट खेले जैसे उनके बल्लेबाज भी नहीं खेल पाए। उन्होंने कहा, ‘‘हमने गेंद से शानदार प्रदर्शन किया। संभवत: जिमी नीशाम के क्रीज पर उतरने तक अगर हम मैच में आगे नहीं थे तो कम से कम मैच में बने हुए थे। नीशाम के आने तक सब कुछ काम कर रहा था। बेहद दबाव वाली स्थिति में यह शानदार पारी थी।' 

मोर्गन ने न्यूजीलैंड के सलामी बल्लेबाज मिशेल की भी तारीफ की जिन्होंने अपनी नाबाद पारी में चार चौके और इतने ही छक्के मारे। उन्होंने कहा, ‘मैं कहना चाहूंगा कि उसने (मिशेल ने) आज बेहतरीन पारी खेली। वह दुनिया की नंबर एक टीम के खिलाफ काफी अच्छा खेला और अपनी टीम को फाइनल में ले गया।' 

.
.
.
.
.