Sports

टोक्यो : स्टिना ब्लैकस्टेनियस के दो गोल के दम पर स्वीडन ने ओलंपिक महिला फुटबॉल में विश्व रैंकिंग में पहले स्थान पर काबिज अमेरिका को 3-0 हराकर 44 मैचों के उसके अजेय क्रम को तोड़ दिया। बुधवार को खेले गए अन्य मैचों में ब्राजील ने चीन को 5-0 से करारी शिकस्त दी जबकि ब्रिटेन ने चिली पर 2-0 की जीत दर्ज की। ओलंपिक स्वर्ण पदक की प्रबल दावेदार अमेरिका की महिला टीम 44 मैचों तक अजेय रहते हुए टोक्यो पहुंची थी, जहां विश्व रैंकिंग में पांचवें स्थान पर काबिज स्वीडन ने उसके अजेय क्रम को रोक दिया।

खास बात यह है कि ओलंपिक खेलों में 5 साल (रियो 2016) पहले भी स्वीडन ने क्वार्टर फाइनल में अमेरिका का विजय अभियान रोका था। ग्रुप जी के इस मैच में स्वीडन के लिए तीसरा गोल लीना हर्टिंग ने किया। विश्व रैंकिंग में सातवें स्थान पर काबिज ब्राजील के सामने चीन की महिला टीम ने आसानी से घुटने टेक दिए। ब्राजील के लिए मार्टा (नौवें और 74वें मिनट) के दो गोल किये जिससे वह लगातार पांच ओलंपिक में गोल करने वाली पहली खिलाड़ी बन गयीं। मार्टा के अलावा देबिन्हा, आंद्रेसा एल्वेस और बीट्रिज ने भी ब्राजील की बड़ी जीत में गोलकर योगदान दिया।

छह बार की फीफा ‘प्लेयर ऑफ द ईयर’ मार्टा ने 111 अंतरराष्ट्रीय गोल किए हैं जो ब्राजील के किसी महिला या पुरुष खिलाड़ी में सबसे ज्यादा हैं एक अन्य मुकाबले में एलेन व्हाइट की दो गोल की मदद से ब्रिटेन को ओलंपिक में पहली क्वालीफाई करने वाली चिली की महिला टीम को हराने में ज्यादा परेशानी नहीं हुई।

विश्व रैंकिंग में 37वें स्थान पर काबिज चिली के खिलाफ व्हाइट ने 18वें मिनट में ब्रिटेन को बढ़त दिलायी और फिर 75वें मिनट में इस बढ़त को दोगुना किया। ब्रिटेन की इस टीम में विश्व रैंकिंग में छठे स्थान पर काबिज इंग्लैंड के अलावा स्कॉटलैंड, वेल्स और उत्तरी आयरलैंड के खिलाड़ी शामिल है। इससे पहले ब्रिटेन की टीम ने 2012 में ओलंपिक में भाग लिया था।

.
.
.
.
.