Sports

फुझोउ: शीर्ष भारतीय पुरुष बैडमिंटन खिलाड़ी किदांबी श्रीकांत ने चीन ओपन से नाम वापस ले लिया लेकिन महिलाओं में शीर्ष खिलाड़ी पीवी सिंधू और साइना नेहवाल मंगलवार से यहां शुरू हो रहे सात लाख डालर इनामी राशि वाले इस टूर्नामेंट से लय हासिल करने के साथ खिताब जीतने की कोशिश करेंगे। विश्व रैंकिंग में पूर्व नंबर एक भारतीय खिलाड़ी श्रीकांत को मौजूदा विश्व चैम्पियन और नंबर एक खिलाड़ी जापान के केंटो मोमोटा से भिड़ना था लेकिन उन्होंने टूर्नामेंट में भाग नहीं लेने का फैसला किया। श्रीकांत अगले सप्ताह खेले जाने वाली हांगकांग ओपन विश्व टूर सुपर 500 प्रतियोगिता में भाग लेंगे। 

PunjabKesari
भारत की नजरें सिंधु और साइना के खेल पर होगी जिनसे अच्छे प्रदर्शन की उम्मीदें हैं। एकल में इन दोनों महिला खिलाड़ियों के अलावा युगल में सात्विकसाइराज रंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी की भारतीय पुरुष जोड़ी से भी अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद होगी जिन्होंने पिछले महीने फ्रेंच ओपन के फाइनल तक का सफर तय किया था। भारतीय जोड़ी हालांकि उपविजेता रही थी। इससे पहले चीन, कोरिया और डेनमार्क में खेले गए टूर्नामेंटों के पिछले तीन टूर्नामेंट में सिंधू और साइना का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा है लेकिन भारतीय खिलाड़ियों ने फ्रेंच ओपन के क्वार्टर फाइनल में पहुंच कर लय में होने का संकेत दिया था। इस साल अगस्त में विश्व चैम्पियनशिप का खिताब अपने नाम करने वाली सिंधु को छठी वरीयता दी गयी है जो पहले दौर में जर्मनी की युवोन्ने ली से भिड़ेंगी। 

आठवीं वरीयता प्राप्त साइना का सामना चीन की काइ यान यान से होगा। सिंधु अगर शुरुआती दौर की चुनौती से पार पाने में सफल रहीं तो क्वार्टर फाइनल में उनका सामना तीन बार की विश्व चैम्पियन कैरोलीना मरीन या विश्व नंबर एक खिलाड़ी ताइ जु यिंग से हो सकता है। साइना को क्वार्टर फाइनल में दूसरी वरीयता प्राप्त जापान की अकाने यामागुची का सामना करना पड़ सकता है। बीडब्ल्यूएफ विश्व टूर सुपर 750 टूर्नामेंट में बी साई प्रणीत, समीर वर्मा, एचएस प्रणाय, पूर्व राष्ट्रमंडल चैम्पियन पारुपल्ली कश्यप भी पुरुष एकल में अपनी चुनौती पेश करेंगे। युगल में सात्विक और चिराग की भारतीय जोड़ी पहले दौर में जब कोरिया की किम जी जुंग और ली योग दाई के खिलाफ कोर्ट में उतरेगी तो उसकी कोशिश फ्रेंच ओपन की लय को बरकरार रखने की होगी। मनु अत्री और बी सुमीत रेड्डी की जोड़ी के सामने पहले दौर में मलेशिया के आरोन चिय और शोह वूइ यिक की चुनौती होगी। 

.
.
.
.
.