Sports

विशाखापत्तनम : भारत के खिलाफ पहले टेस्ट में दक्षिण अफ्रीकी टीम ने हरफनमौला सेनुरान मुथुस्वामी को प्लेइंग-11 में जगह दी है जोकि भारतीय मूल के हैं। मुथुस्वामी का परिवार काफी सालों पहले ही तमिलनाडु से दक्षिण अफ्रीका चला गया था। डरबन में रहता 25 साल के मुथुस्वामी भारत को अच्छी तरह से जानते हैं। वह बीते साल दक्षिण अफ्रीका-ए टीम के साथ भारत आ चुके हैं।

भारत के विरुद्ध डैब्यू बना खास

South Africa gave Senuran Muthusamy a surprise entry in the playing-11
पदार्पण टेस्ट से पहले मुथुस्वामी ने कहा कि हम मूलत: चेन्नई से हैं। मेरेे परिवार के लोग अब भी नागापत्तनम (चेन्नई से लगभग 300 किलोमीटर दूर) में है। मेरी कई पीढिय़ा दक्षिण अफ्रीका में है लेकिन भारत से हमारा जुड़ाव है और हमारी संस्कृति भारत की तरह ही है। उन्होंने कहा कि मेरे माता-पिता को जब मेरे चयन के बारे में पता चला तो वे काफी खुश थे और भारत के खिलाफ मेरे पदार्पण ने इसे और खास बना दिया।

मुथुस्वामी को नहीं आती भारतीय भाषा
भारत से जुड़ाव के बारे में पूछे जाने पर मुथुस्वामी ने कहा कि मैं डरबन में योग करता हूं। दक्षिण अफ्रीका के डरबन में ही सबसे ज्यादा भारतीय आबादी है। हम नियमित तौर पर मंदिर जाते हैं और मेरे परिवार में कई लोग तमिल में बात भी करते हैं। दुर्भाग्य से मैं नहीं बोल पाता हूं लेकिन मैं भी धीरे-धीरे बोलना सीख रहा हूं। 

प्रथम श्रेणी में है शानदार रिकॉर्ड

South Africa gave Senuran Muthusamy a surprise entry in the playing-11
मुथुस्वामी ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 32.72 की औसत से 3403 रन बनाने के साथ 28.65 की औसत से 129 विकेट भी लिए हैं। उन्होंने कहा कि ए टीम के साथ भारत का दौरा और बेंगलुरु स्थित क्रिकेट अकादमी में समय बिता कर उन्होंने खुद को उपमहाद्वीप के हालात के मुताबिक तैयार किया है। 

गर्मी से सामंजस्य बैठाना मुख्य समस्या
मुथुस्वामी ने कहा कि आपको यहां गर्मी से सामंजस्य बैठाना होगा। यहां स्पिनरों पर मैच जिताने का काफी दबाव होता है और यह लागातार लय में रहने के बारे में है। घरेलू मैचों में ठीक इसका उलट होता है जहां हमारी जरूरत चौथी पारी में होती है। बल्लेबाजी में भी मैंने काफी कुछ सीखा है।

कुमार संगकारा और रंगना हेराथ हैं पसंदीदा

South Africa gave Senuran Muthusamy a surprise entry in the playing-11
बल्लेबाजी को यहां के विकेट के मुताबिक बनाने की कोशिश है जहां गेंद को कम उछाल मिलती है। आपको रिवर्स स्विंग का ज्यादा सामना करना पड़ता है। मुझे लगता है कि मैं यहां काफी कुछ सीख सकता हूं। मुथुस्वामी ने कहा कि श्रीलंका के कुमार संगकारा और रंगना हेराथ उनके पसंदीदा क्रिकेटर हैं जबकि वह शाकिब अल हसन, मोईन अली और बिशन सिंह बेदी के भी प्रशंसक हैं।

.
.
.
.
.