Sports

खेल डैस्क : केएल राहुल जिम्बाब्वे के खिलाफ भारत की एकदिवसीय श्रृंखला के लिए शुभमन गिल की जगह शीर्ष क्रम में हो सकते हैं। राहुल को गुरुवार (11 अगस्त) को बीसीसीआई द्वारा फिट घोषित किया गया था और वह तीन मैचों की श्रृंखला में मेन इन ब्लू का नेतृत्व भी करेंगे। ऐसे में पूर्व भारतीय क्रिकेटर मनिंदर सिंह को लगता है कि शुभमन के लिए यह सही संकेत नहीं है। अनुभवी शिखर धवन शीर्ष क्रम में लगभग एक निश्चित शुरुआत है। 

Shubman Gill, consistency, Maninder Singh, cricket news in hindi, IND vs ZIM, शुभमन गिल, निरंतरता, मनिंदर सिंह, क्रिकेट समाचार हिंदी में

हालांकि पूर्व भारतीय दिग्गज क्रिकेटर मनिंदर सिंह का मानना है कि गिल के आगे राहुल को बल्लेबाजी के लिए ओपन करना कोई ब्रेनर नहीं है। गिल-राहुल पहेली पर मनिंदर ने कहा- जहां तक शुभमन गिल की बात है, तो उन्हें भारत के लिए कई मौके मिले हैं। वह निरंतरता दिखाने में नाकाम रहे हैं। अगर केएल राहुल भारतीय टीम में वापस आ रहे हैं तो उन्हें सीधे ओपनिंग करनी चाहिए। यहीं से उन्हें काफी कुछ मिला है।

 

 मनिंदर सिंह को लगता है कि शुभमन गिल को ओपनिंग नहीं करनी चाहिए। वह मध्यक्रम में अच्छे बल्लेबाज हो सकते हैं। युवा खिलाड़ी पिछले कुछ समय से अच्छी फॉर्म में है और सिंह को लगता है कि इससे उन्हें मध्यक्रम में जगह बनाने की दौड़ में दूसरों पर बढ़त मिल सकती है। मनिंदर बोले- जो भी फॉर्म में है उसे पहले एकादश का हिस्सा होना चाहिए। गिल के साथ सबसे बड़ा फायदा यह है कि वह किसी भी नंबर पर बल्लेबाजी कर सकता है। मुझे लगता है कि वह एक अच्छी पारी खेलता है फिर 2-3 पारियां गंवा देता है। वह निरंतरता दिखाएगा तो आत्मविश्वास भी पाएगा। वह देखने वाला क्रिकेटर है।

Shubman Gill, consistency, Maninder Singh, cricket news in hindi, IND vs ZIM, शुभमन गिल, निरंतरता, मनिंदर सिंह, क्रिकेट समाचार हिंदी में
बता दें कि विंडीज के खिलाफ वनडे सीरीज में शुभमन गिल प्लेयर ऑफ द सीरीज रहे थे। उन्होंने तीनों मैच में 100 से ज्यादा की स्ट्राइक रेट से रन बनाए थे। एक मैच में वह शतक बनाने से भी चूके थे। उन्होंने अपनी परफार्मेंस पर भविष्य की संभावनाओं पर बीते दिनों एक इंटरव्यू में कहा था कि मुझे यकीन है कि अगर मुझे नियमित अवसर मिलता है, तो मैं अपनी पहचान बना लूंगा। मैंने खुद का समर्थन किया, 100 फीसदी प्रयास किया, ताकि मैं भारत की टीम में अपनी जगह पक्की कर सकूं। 

.
.
.
.
.