Sports

नई दिल्ली : टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन (Shikhar Dhawan) के लिए यह साल अच्छा नहीं जा रहा है। क्रिकेट विश्व कप (Cricket World Cup) के दौरान महज दो मैच खेलने के बाद उन्हें चोट के चलते टीम से बाहर होना पड़ा था। विश्व कप के बाद वेस्टइंडीज दौरे में असफल होने पर जब उन्होंने घरेलू क्रिकेट का रुख किया तो वहां भी उन्हें निराशा ही हाथ लगी है। विजय हजारे ट्रॉफी (Vijay Hazare Trophy) में दिल्ली की ओर से खेल रहे धवन का औसत प्रदर्शन टीम इंडिया (Team India) के लिए मुसीबत खड़ी कर सकता है।

शिखर धवन की परफार्मेंस चिंता की बात

क्रिकेट विश्व कप के बाद भारतीय टीम वेस्टइंडीज के दौरे पर गई थी। वहां खेले गए तीन टी-20 मैचों में धवन के बल्ले से सिर्फ 27 रन ही निकले थे। इसके अलावा दो वनडे में वह 38 रन ही बना पाए थे।

विजय हजारे ट्रॉफी ने और बढ़ाई चिंता

Sports, shikhar dhawan image, shikhar dhawan photo, शिखर धवन फोटो
धवन अगले साल होने वाले आईसीसी टी-20 वल्र्ड कप पर फोक्स करने के लिए वनडे और टी-20 पर जोर दे रहे हैं। इसी कड़ी के तहत वह विजय हजारे ट्रॉफी में खेलने उतरे लेकिन छह मैचों में केवल 130 रन बनाने के कारण टीम इंडिया प्रबंधन की चिंता बढ़ गई है।

रोहित-मयंक के कारण वापसी मुश्किल

शिखर धवन के नाम 133 वनडे मैचों में 17 शतकों के साथ 5518 रन दर्ज हैं। जबकि 55 टी 20 आई मैचों में उनके नाम 1413 रन हैं। 34 टेस्ट मैचों में वह 7 शतकों के साथ 2315 रन बना चुके हैं। अब मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal) और रोहित शर्मा (Rohit Sharma) के ओपनिंग पर सफल होने के कारण उनका स्थान बनता नहीं दिख रहा है।

शिखर धवन विश्व कप में भी खेल पाए थे दो मैच

Sports, shikhar dhawan image, shikhar dhawan photo, शिखर धवन फोटो
शिखर धवन विश्व कप के दौरान भी केवल दो ही मैच खेल पाए थे। दरअसल द. अफ्रीका के खिलाफ मैच के दौरान उनकी अंगुली पर चोट लग गई थी। उन्होंने इसके बावजूद शतक लगाया। लेकिन चोट की जब स्कैन हुई तो पता चला मामला गंभीर है। इसके बाद धवन वल्र्ड कप छोड़कर वापस इंडिया आ गए थे।

.
.
.
.
.