Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : पूर्व ऑस्ट्रेलियाई लेग स्पिनर शेन वार्न ने अधिकारियों से कहा कि कप्तान द्वारा रिव्यू लेने के बाद ऑन-फील्ड अंपायर के फैसले को हटा देना चाहिए। मुंबई इंडियंस के किरोन पोलार्ड को सनराइजर्स हैदराबाद (एसआरएच) द्वारा जारी इंडियन प्रीमियर लीग के आखिरी लीग चरण के मैच के दौरान रिव्यू लेने के बाद नॉट आउट करार दिए जाने के बाद उनकी प्रतिक्रिया आई है। 

मुंबई की बल्लेबाजी के दौरान 15वें ओवर में सनराइजर्स के स्पिनर राशिद खान एलबीडब्ल्यू अपील की लेकिन डेविड वार्नर के रिव्यू लेने के बाद ऑल फील्ड अंपायर ने इसे नाॅट आउट करार दिया। हालांकि अंपायर के इस फैसले का असर कुछ खास नहीं रहा और मुंबई ने 8 विकेट गंवाकर 149 रन बनाए जिसके बाद उसे 10 विकेट से हार का सामना करना पड़ा। 

वार्न ने इसके बाद ट्वीट करते हुए कहा, मैं इस बारे में आवाज उठाता रहूंगा। यदि कोई कप्तान एक निर्णय की समीक्षा करता है, तो फील्ड अंपायर के फैसले को हटा दिया जाना चाहिए, क्योंकि आपके पास एक ही गेंद नहीं हो सकती है जो आउट और नाॅट आउट हो! एक बार ऐसा होने के बाद, यह सरल और स्पष्ट होगा - चाहे वह नाॅट आउट है या नहीं। 

उन्होंने आगे कहा, इससे अंपायरों को निर्णय लेने के अधिकार मिल रहे हैं या नहीं, इसकी अधिक सटीक तस्वीर मिल सकेगी। अंपायर कॉल होने से अंपायर के प्रदर्शन के सारांश में मदद मिलती है! मूल ऑन-फील्ड निर्णय खत्म करें जिससे कोई अंपायर कॉल नहीं रहेगी। 

.
.
.
.
.