Sports

विजयनगरम : दक्षिण अफ्रीका के तेज गेंदबाज वर्नोन फिलैंडर चाहते हैं कि सीनियर खिलाड़ियों को जिम्मेदारी लेनी चाहिए और 2 अक्टूबर से शुरू हो रही तीन मैचों की टेस्ट सीरीज में भारत के मजबूत खिलाड़ियों के खिलाफ अच्छा प्रदर्शन करना चाहिए। भारत के खिलाफ शुरूआती टेस्ट से दक्षिण अफ्रीकी टीम आईसीसी विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप अभियान की शुरूआत करेगी और फिलैंडर ने कहा कि यह कठिन शुरूआत होगी।

उन्होंने आईसीसी से कहा, ‘यह मुश्किल शुरूआत है.. भारत से भारत में खेलना लेकिन मुझे नहीं लगता कि दक्षिण अफ्रीकी टीम भी इससे इतर चाहती होगी। बड़े धुरंधरों से उनकी सरजमीं पर भिड़ना।' उन्होंने कहा, ‘हम सभी इस चुनौती के लिये बिलकुल तैयार हैं और इसमें काफी चुनौतियां खिलाड़ियों के आपस में भी होंगी।' हाशिम अमला और डेल स्टेन जैसे अनुभवी क्रिकेटरों के संन्यास लेने के बाद दक्षिण अफ्रीका की यह पहली टेस्ट सीरीज होगी। फिलैंडर ने अभ्यास मैच के अंतिम दिन के समापन के बाद कहा, ‘ध्यान सभी बड़े खिलाड़ियों पर होगा कि वे अपनी अहमियत दिखाएं। हमारा काम यहां आकर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना है क्योंकि भारत से निश्चित रूप से अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद होगी।'

उन्होंने कहा, ‘हमारी टीम धीमी शुरूआत करने के लिए मशहूर है इसलिए इस बार हमें अच्छी शुरूआत करनी होगी। खिलाड़ियों पर काफी दबाव है लेकिन यह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट है और आप इसे इसी तरह खेलना चाहते हो।' फिलैंडर ने 2018 में भारत के खिलाफ दक्षिण अफ्रीका की अंतिम सीरीज के दौरान 15 विकेट अपने नाम किए थे। वह चाहते हैं कि सीनियर खिलाड़ी युवाओं के सामने उदाहरण पेश करें। उन्होंने कहा, ‘हमारे कुछ सीनियर खिलाड़ी टीम से चले गए हैं और कुछ नए खिलाड़ियों ने उनकी जगह ली है और हम चाहते हैं कि वे तेजी से सीखें।' उन्होंने कहा, ‘उम्मीद है कि हम उन सीनियर खिलाड़ियों के अनुभव का इस्तेमाल कर सकें जो अभी टीम में हैं और इसे आने वाले दिनों में अच्छी टेस्ट टीम के रूप में तैयार कर सकें। यह अहम हिस्सा होगा कि खिलाड़ियों के लिये आगे बढ़ने के लिये अच्छी नींव रखें।' 

.
.
.
.
.