Sports

जिनेवा : दो बार की शीतकालीन ओलंपिक बायथलन चैंपियन ओल्गा जेतसेवा ने रूस की सरकार द्वारा समर्थित डोपिंग कार्यक्रम का हिस्सा होने के कारण 2014 सोचि ओलंपिक में अयोग्य घोषित किए जाने के खिलाफ अपनी अपील गंवा दी। खेल पंचाट ने कहा कि उनके न्यायाधीशों ने अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) की 2017 के अनुशासनात्मक फैसले को बरकरार रखा है। इस फैसले के दौरान रूस के व्हिसलब्लोवर ग्रिगोरी रोचेनकोव द्वारा मुहैया कराए गए साक्ष्यों का इस्तेमाल जेतसेवा के खिलाफ किया गया था। जेतसेवा को सभी स्पर्धाओं से अयोग्य घोषित किए जाने से रूस ने सोचि में महिला बायथलन चार गुणा छह किमी रिले का रजत पदक गंवा दिया था।
 

.
.
.
.
.