Sports

खेल डैस्क : न्यूजीलैंड के पूर्व बल्लेबाज रोस टेलर ने अपनी आत्मकथा  रॉस टेलर ब्लैक एंड व्हाइट में इंगलैंड के कप्तान बने स्टोक्स को लेकर भी एक रोचक खुलासा किया है। टेलर का कहना है कि स्टोक्स जोकि न्यूजीलैंड में ही जन्मा था जब 18 साल का था, तो उन्होंने उसे न्यूजीलैंड की ओर से खेलने के लिए मनाया था। न्यूजीलैंड क्रिकेट बोर्ड से बात की गई लेकिन इस मामले को संभाला नहीं गया। यही स्टोक्स बाद में जाकर इंगलैंड के लिए 2019 विश्व कप जीत का कारण बना। 

Ross Taylor, Revealed, Ben Stokes, New Zealand cricket Board, Blackcaps, cricket news in hindi, रॉस टेलर, खुलासा, बेन स्टोक्स, न्यूजीलैंड क्रिकेट बोर्ड, ब्लैककैप, क्रिकेट समाचार हिंदी में

टेलर ने लिखा- 2010 में स्टोक्स उनके साथ डरहम के लिए खेल रहा था। मैंने उसका खेल देखने के बाद उससे पूछा- क्या आप न्यूजीलैंड के लिए खेलना चाहते हैं। स्टोक्स ने गहरी दिलचस्पी दिखाई। तब मैं बोर्ड के तत्कालीन सीईओ जस्टिन वॉन के पास पहुंच गया। मैंने उन्हें संदेश भेजा कि यह लड़का (स्टोक्स) वास्तव में एक अच्छा युवा क्रिकेटर है और न्यूजीलैंड के लिए खेलने में दिलचस्पी रखता है। लेकिन वॉन ने राष्ट्रीय टीम की बजाय स्टोक्स को घरेलू क्रिकेट खेलने पर जोर दिया। 

टेलर ने कहा- वॉन ने उस समय जवाब दिया- वह घरेलू क्रिकेट खेलना शुरू कर सकता है और हम देखेंगे कि यह कहां जाता है। मुझे यह पेशकश ठीक नहीं लगी। टेलर ने लिखा- बेन न्यूजीलैंड के लिए खेलने के बारे में ईमानदार थे, लेकिन एनजेडसी को तेजी से फैसले लेने चाहिए थे। हालांकि स्टोक्स इससे पहले एक बेवसाइट को दिए इंटरव्यू में इंगलैंड टीम की ओर से खेलने की इच्छा जता चुके थे। स्टोक्स का कहना था कि वह लंबे समय से इंगलैंड में हैं और खुद को अंग्रेज ही मानते हैं। 

Ross Taylor, Revealed, Ben Stokes, New Zealand cricket Board, Blackcaps, cricket news in hindi, रॉस टेलर, खुलासा, बेन स्टोक्स, न्यूजीलैंड क्रिकेट बोर्ड, ब्लैककैप, क्रिकेट समाचार हिंदी में

टेलर ने लिखा- स्टोक्स ने इस इंटरव्यू के एक साल बाद मेरी बात हुई थी। न्यूजीलैंड बोर्ड से जल्दी रिस्पांस न मिलता देख वह सीनियर काउंटी टीम में लगातार खेलता रहा। 2011 में उसने इंग्लैंड में पदार्पण किया और उसके बाद इतिहास बनाता गया।

.
.
.
.
.