Sports

एडीलेड: भारत और आॅस्ट्रेलिया के बीच चार टेस्ट मैचों की श्रृंखला का पहला मैच गुरूवार से शुरू होगा। भारतीय टीम के युवा सलामी बल्लेबाज पृथ्वी शाॅ को लेकर भारतीय टीम के कोच रवि शास्त्री ने एक बयान दिया है। शास्त्री के मुताबिक शाॅ टखने की अपनी चोट से तेजी से उबर रहे हैं और उनकी मेलबर्न में होने वाले ‘बॉक्सिंग डे’ टेस्ट मैच में वापसी करने की संभावना है।
sports news, Cricket news in hindi, indian Cricket team, Coach shastri, Prithvi shaw, recover injury, comeback, boxing Day
मुंबई का यह 19 वर्षीय बल्लेबाज क्रिकेट आॅस्ट्रेलिया एकादश के खिलाफ सिडनी में भारत के अभ्यास मैच के दौरान डीप मिडविकेट बाउंड्री पर कैच लेते समय चोटिल हो गया था। उनके बाएं टखने में चोट लगी है जिसके कारण वह पहले टेस्ट मैच में नहीं खेल पाएंगे।
sports news, Cricket news in hindi, indian Cricket team, Coach shastri, Prithvi shaw, recover injury, comeback, boxing Day
बॉक्सिंग डे टेस्ट 26 दिसंबर से 30 दिसंबर तक मेलबर्न में खेला जाएेगा। शास्त्री ने आॅस्ट्रेलियाई के एक वेबसाइट से कहा, ‘उसका इस तरह से चोटिल होना दुखद है लेकिन अच्छी बात यह है कि उसकी स्थिति में तेजी से सुधार हो रहा है। उसने चलना शुरू कर दिया है और अगर उसने सप्ताहांत तक दौडऩा शुरू कर दिया तो यह अच्छा संकेत होगा।’ उन्होंने कहा, ‘वह अभी युवा है और वह जल्दी फिट हो सकता है। हम पर्थ दूसरे टेस्ट मैच के दौरान में उसको लेकर फैसला कर सकते हैं।’
sports news, Cricket news in hindi, indian Cricket team, Coach shastri, Prithvi shaw, recover injury, comeback, boxing Day
शास्त्री ने कहा कि आॅस्ट्रेलियाई टीम विराट कोहली की टीम के लिए कड़ी चुनौती पेश करेगी। उन्होंने कहा, ‘स्वदेश में कोई भी टीम कमजोर नहीं है। स्वदेश में हर टीम मजबूत होती है। यह मायने नहीं रखता कि आपका प्रतिद्वंद्वी कौन है और मुझे लगता है कि आॅस्ट्रेलिया अपनी तरफ से कोई कसर नहीं छोड़ेगा। लेकिन हमारे पास प्रतिभा और अनुभव है। गेंदबाजी विभाग में हमारे पास कुशल गेंदबाज हैं।’ भारतीय कोच ने कहा कि उन्हें कुछ सत्रों में नहीं बल्कि लगातार अच्छा प्रदर्शन करना होगा। उन्होंने कहा, ‘आप एक या दो अच्छे सत्र के आधार पर जीत नहीं सकते हो, आपको पूरे मैच में प्रतिस्पर्धी बने रहना होगा क्योंकि मैचों में एक घंटे के अंदर पासा पलट जाता है। खिलाड़ी इससे अच्छी तरह वाकिफ हैं और वे जानते हैं कि उन्हें हर समय अपना सर्वश्रेष्ठ करना होगा।’     

.
.
.
.
.