Sports

मिल्टन: मयंक अग्रवाल ने रविवार को यहां भारत के न्यूजीलैंड एकादश के खिलाफ ड्राॅ हुए अभ्यास मैच में अपने जन्मदिन के मौके पर रन जुटाए जबकि ऋषभ पंत ने सतर्क होकर आक्रामकता से बल्लेबाजी की। मैच लंच के एक घंटे बाद समाप्त कर दिया गया, जब तक भारत ने अपनी दूसरी पारी में महज 48 ओवर खेलकर चार विकेट पर 252 रन बनाए थे। बांग्लादेश के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच के बाद से ही अग्रवाल का खराब दौर चल रहा था, लेकिन यहां वह 99 गेंद में 10 चौकों और तीन छक्कों से 81 रन बनाकर रिटायर हुए। 

भारतीय टीम प्रबंधन के लिए पंत का क्रीज पर जमना राहत की बात रही जिन्होंने अपने नैसर्गिक अंदाज में बल्लेबाजी करते हुए 65 गेंद में 70 रन बनाए। इस दौरान उन्होंने प्रतिद्वंद्वी गेंदबाजों के अच्छे स्पैल को सम्मान दिखाया और सतर्कता से खेले। पारी में उन्होंने लेग स्पिनर ईश सोढ़ी और आफ स्पिनर हेनरी कपूर के खिलाफ दो-दो चौके जमाये। पंत ने अपनी आक्रामकता को नहीं दबाया लेकिन स्पिनरों के खिलाफ वह रक्षात्मक खेलते दिखे और न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाजों की कुछ गेंदों को उन्होंने छोड़ा भी। पंत हालांकि सीनियर खिलाड़ी ऋद्धिमान साहा की तुलना में बेहतर बल्लेबाज हैं। लेकिन दिन के अंत में बल्लेबाजी के लिए उतरे साहा दबाव भरे हालात में कहीं ज्यादा जिम्मेदार बल्लेबाज हैं। भारत की दूसरी पारी से सबसे बड़ी सकारात्मक चीज अग्रवाल की खराब फार्म का खत्म होना रही।

सेडोन पार्क की पिच बल्लेबाजी के मुफीद होती जा रही है, इसमें इसका भी हाथ हो सकता है लेकिन अग्रवाल का फुटवर्क निश्चित रूप से काफी बेहतर दिख रहा था जिन्होंने तेज गेंदबाजों के खिलाफ कुछ शानदार आन-ड्राइव और पुल शाट जमाये। इस मैच से पहले अग्रवाल ने 10 प्रतिस्पर्धी मैच खेले थे जिसमें प्रथम श्रेण, वनडे और लिस्ट ए मैच शामिल थे। वह 11 पारियों में 40 रन से आगे तक नहीं बढ़ा पाए थे। फार्म में वापसी के बाद वह लंच के बाद क्रीज पर बल्लेबाजी करने नहीं उतरे जिससे साहा को बल्लेबाजी का मौका मिला जिन्होंने नाबाद 30 रन बनाये। अग्रवाल-पंत की जोड़ी ने 14.3 ओवर में 100 रन जोड़े। सुबह के सत्र में पृथ्वी साव (31 गेंद में 39 रन) को डेरिल मिशेल ने आउट किया जिन्होंने इस बल्लेबाज के बल्ले और पैड के बीच से जगह ढूंढकर उन्हें बोल्ड किया।

.
.
.
.
.