Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : भारत और इंग्लैंड के बीच अहमदाबाद खेले गए तीसरे टेस्ट मैच ने क्रिकेट जगत के लोगों का ध्यान अपनी और आर्कषित किया। गुलाबी गेंद से खेले गए इस टेस्ट मैच का नतीजा सिर्फ दो ही दिन में आ गया। कई पूर्व क्रिकेटरों ने पिच को लेकर सवाल उठाए और आलोचना की। लेकिन कुछ खिलाड़ियों ने पिच का बचाव भी किया। इसी में एक और नाम जुड़ गया है ऑस्ट्रेलिया के ऑफ स्पिनर नाथन लायन का। नाथन लायन अहमदाबाद पिच की ओलचना करने वालों को करारा जवाब दिया है।

नाथन लायन ने एक बयान में कहा कि जब हम सीमिंग विकेट्स पर खेलते हुए 40 और 60 रन पर आउट हो जाते हैं तो कोई भी इस तरह की बात नहीं कहता। लेकिन जब स्पिन गेंदबाजी की बात आती है तो पूरी दुनिया में सभी इसे लेकर रोना शुरू कर देते हैं। मुझे यह समझ में नही आता। मुझे सब पसंद हैं और वह मनोरंजक मैच था। मैंने पूरी रात जागकर वह मैच देखा था। वह शानदार मैच था। मैं सोच रहा हूं कि उस पिच क्यूरेटर को सिडनी क्रिकेट ग्राउंड ले आउं। 


 
वहीं भारत के पूर्व स्पिन रह प्रज्ञान ओझा ने भी पिच की आलोचना करने वालों पर बयान दिया है। ओझा ने कहा कि आप स्टुअर्ट ब्रॉड के बारे में बात करें जब उन्होंने 15 रन देकर 8 विकेट लिए थे। वह किस तरह की पिच थी। अगर सीमिंग परिस्थितियों में मैच 2-3 दिन में खत्म हो जाता है जहां घास होती है वह बिल्कुल ठीक है। लेकिन जब गेंद टर्न और बाउंस होने लगे तब आप कहना शुरू कर देते हैं कि यह टेस्ट मैच के लिए सही पिच नहीं है। 

गौर हो कि इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने अहमदाबाद में जिस पिच पर मैच खेला उस पर सवाल उठाए थे और कहा था कि यह टेस्ट मैच के लिए सही विकेट नहीं है। वहीं इंग्लैंड के ही कप्तान और बल्लेबाज केविन पीटरसन ने भी पिच की आलोचना की थी और कहा था कि आगे से इस तरह की पिच नहीं बननी चाहिए। 
 

.
.
.
.
.