Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : कर्नाटक प्रीमियर लीग (केपीएल) में फिक्सिंग के मामले में कर्नाटक पुलिस की क्राइम ब्रांच टीम ने एक और खिलाड़ी को गिरफ्तार किया है। क्राइम ब्रांच ने शिवमोगा लायंस फ्रेंचाइजी के खिलाड़ी निशांत शेखावत को दलाल की भूमिका निभाने और सट्टेबाजों के संपर्क में होने के आरोप में गिरफ्तार किया है। इससे पहले क्राइम ब्रांच ने बेंगलुरु ब्‍लास्‍टर्स के गेंदबाजी कोच वीनू प्रसाद और बल्‍लेबाज एम विश्‍वनाथन को गिरफ्तार किया था। 

PunjabKesari

रिपोर्ट्स के मुताबिक 29 वर्षीय निशांत शेखावत और वीनू प्रसाद ने केपीएल के 2018 सीजन में बेंगलुरु ब्‍लास्‍टर्स और हुबली टाइगर्स के बीच हुए मैच के दौरान फिक्सिंग की थी। इतना ही नहीं इन दोनों ने एम विश्‍वनाथन को मैच फिक्‍सिंग के लिए उकसाया और अपने साथ शामिल किया था। शेखावत और प्रसाद के कहने पर विश्‍वनाथन ने 20 गेंदों में 20 से कम रन बनाकर आउट होने का प्रस्ताव स्विकार किया था और सिग्नल के रूप में अपनी स्‍लीव ऊपर उठाई और बल्‍ला बदला था। 

PunjabKesari

विश्‍वनाथन उक्त मैच में 17 गेंदों में 9 रन बनाकर दर्शन को उनकी गेंद पर आसान कैच देकर आउट हुए थे। ऐसा करने के लिए विश्‍वनाथन को 7 हजार डॉलर (करीब 5 लाख रुपए) भी मिले। निशांत शिवामोगा मैंगलोर और हुबली टाइगर्स की ओर से खेल चुके हैं, जबकि 2016 में वे करुण नायर की अगुआई वाली मैंगलाेर टीम का हिस्सा थे। इस मैच में हुबली टाइगर्स ने बेंगलुरु ब्‍लास्‍टर्स के सामने 118 रन का लक्ष्‍य रखा था और ब्‍लास्‍टर्स ने 2 गेंदें रहते 6 विकेट से ये मैच जीता था। 

.
.
.
.
.