Sports

विज्क आन ज़ी ,नीदरलैंड ( निकलेश जैन )कल से शुरू होने जा रहे 83वें टाटा स्टील क्लासिकल ऑन द बोर्ड शतरंज के साथ ही इस बड़े सुपर ग्रांड मास्टर टूर्नामेंट की कोविड के बाद वापसी होगी । नॉर्वे के मौजूदा विश्व चैम्पियन मेगनस कार्लसन की नजरे अपनी रिकॉर्ड सातवी बार ख़िताबी जीत पर होगी । वर्ष 2018 मे कार्लसन नें इस खिताब को छठी बार जीतकर भारत के विश्वनाथन आनंद के पाँच ख़िताबी जीत के रिकॉर्ड को तोड़ा था जबकि 2020 मे इस खिताब को अमेरिका के विश्व नंबर 2 फबियानों करूआना नें अपने नाम किया था । मेगनस कार्लसन नें सबसे पहले इसे 2010 मे जीता था उसके बाद 2013 , 2015 , 2016 ,2018 और 2019 मे इसे अपने नाम किया अब देखना होगा लंबे समय बाद ऑन द बोर्ड शतरंज मे वह कैसा खेलते है ।

भारत के पेंटाला हरिकृष्णा इस टूर्नामेंट मे अकेले भारतीय होंगे । उंसके और कार्लसन के अलावा, विश्व नंबर 2 अमेरिका के फबियानों करूआना ,विश्व नंबर चार रूस के इयान नेपोंनियची , विश्व नंबर 5 फ्रांस के  मकसीम लागरेव , विश्व नंबर 11 नीदरलैंड के अनीश गिरि ,विश्व नंबर 18 फीडे के अलीरेजा फिरौजा ,विश्व नंबर 19 पोलैंड के जान डुड़ा , विश्व विश्व नंबर 37 रूस के डेनियल डुबोव ,रूस के आन्द्रे एसीपेंकों और नीदरलैंड के जॉर्डन वान जैसे युवा तो स्पेन के डेविड अंटोन जैसे अनुभवी खिलाड़ी को भी शामिल किया गया है 

 

भारत के विश्वनाथन आनंद टाटा स्टील शतरंज जिसे पहले विज्क आन ज़ी टूर्नामेंट के नाम से जाना जाता था  के इतिहास मे कार्लसन के बाद यह खिताब जीतने वाले खिलाड़ी है । हालांकि इस टूर्नामेंट मे 1998 से 2004 तक 70 अपराजित मैच खेलने का रिकॉर्ड आज भी भारत के विश्वनाथन आनंद के पास है ।

.
.
.
.
.