Sports

नॉर्वे (निकलेश जैन ) 16 दिन तक चले पहले ऑनलाइन सुपर ग्रांड मास्टर टूर्नामेंट का खिताब खुद इसके मुख्य आयोजक विश्व चैम्पियन मेगनस कार्लसन नें जीत लिया । उन्होने प्रतियोगिता के दोनों प्ले ऑफ राउंड में शानदार प्रदर्शन किया और पहले सेमीफाइनल में चीन के डिंग लीरेन को और फिर फियाइनल में अमेरिका के नाकामुरा को 2.5-1.5 से पराजित करते हुए विजेता बन गए। दोनों के बीच फ़ाइनल में कुल चार रैपिड मुक़ाबले खेले गए । कार्लसन और नकामुरा के बीच हुए पहले मुक़ाबले मे एक बार फिर कार्लसन नें मैच को लंबा खीचकर बराबर की स्थिति मे भी नाकामुरा से गलतियाँ कराकर मैच जीत लिया । इंग्लिश ओपनिंग मे खेला गया यह मुक़ाबला कार्लसन नें 84 चालों मे अपने नाम किया ।दूसरे मुक़ाबले में नाकामुरा नें जोरदार वापसी की और और कार्लसन की क्यूजीडी के खिलाफ सफ़ेद मोहरो से खेलते हुए प्यादो और घोड़े के शानदार एंडगेम में 57 चालों में कार्लसन को करारी मात दी । इसके बाद तीसरे राउंड में एक बार फिर कार्लसन नें मामूली सी बढ़त को जीत में बदल कर 2-1 से बढ़त बना ली ।

PunjabKesari

क्यूजीडी ओपनिंग में अपने ऊंट और घोड़े की कुर्बानी देकर उन्होने 2 प्यादे और नाकामुरा का हाथी मार लिया । इस एकदम नयी परिस्थिति में कार्लसन नाकामुरा पर भारी पड़े और 52 चालों में  जीत के साथ 2-1 से आगे हो गए। अंतिम मुक़ाबला ड्रॉ रहा हालांकि नाकामुरा इसे जीत सकते थे पर वह इसे जीत में बदल नहीं सके और इस प्रकार अंतिम स्कोर 2.5-1.5 से कार्लसन के पक्ष में गया । सभी खिलाड़ियों को कुल मिलाकर 2,50,000 डॉलर पुरूष्कार स्वरूप दिये गए । विजेता कार्लसन को 75000 तो उपविजेता नाकामुरा को 45000 डॉलर मिले ।  

इससे पहले दूसरे सेमीफ़ाइनल मे  नाटकीय मुकाबलों के अंत मे  विश्व चैम्पियन मेगनस कार्लसन नें चीन के डिंग लीरेन को 2.5-1.5 से पराजित करते हुए ना सिर्फ फ़ाइनल मे प्रवेश किया 

था बल्कि लीग चरण मे उनके हाथो मिली 3-1 की करारी हार का बदला भी ले लिया था 

देखे कार्लसन की सेमी फ़ाइनल मे जीत का विडियो विश्लेषण 

 

दोनों के बीच शुरू हुए मुक़ाबले मे कार्लसन उस समय मुश्किल मे घिर गए थे जब उन्हे पहला मुक़ाबला ड्रॉ रहने के बाद दूसरे मुक़ाबले मे हार का सामना करना पड़ा था और उस समय ऐसा लगा की शायद कार्लसन का बाहर होना तय है उसके बाद उन्होने शानदार वापसी करते हुए बचे हुए दोनों मुक़ाबले जीतकर सेमी फ़ाइनल अपने नाम कर लिया ।  

 

 

.
.
.
.
.