Sports

बेंगलुरू : भारतीय महिला हॉकी टीम की अनुभवी फारवर्ड और गत माह हिरोशिमा एफआईएच महिला सीरीज़ फाइनल्स की जीत में अहम भूमिका निभाने वाली लालरेसियामी ने भरोसा जताया है कि उनकी टीम में 2020 टोक्यो ओलंपिक के लिये क्वालीफाई करने की क्षमता है। लालरेमसियामी ने कहा, ‘ओलंपिक टेस्ट इवेंट के लिये भारतीय टीम का मनोबल काफी ऊंचा है और हमने इसके लिये अभ्यास सत्र में काफी मेहनत की है। नेशनल कैंप में हर सत्र में हमने ओलंपिक को ध्यान में रखकर तैयारी की है। हमें भरोसा है कि हमारे पास ऐसी टीम है जो एक बार फिर ओलंपिक के लिये क्वालीफाई कर सकती है।'

भारतीय हॉकी टीम अब 17 से 21 अगस्त तक होने वाले ओलंपिक टेस्ट इवेंट में हिस्सा लेगी जहां उसका मुकाबला आस्ट्रेलिया, चीन और जापान से होगा, जो अक्टूबर-नवंबर में होने वाले ओलंपिक क्वालिफायर से पूर्व अहम टूर्नामेट है। रानी की अगुवाई वाली टीम इंडिया ने जून में एफआईएच महिला सीरीज़ फाइनल्स में जापान को 3-1 से हराकर खिताब जीता था। लालरेमसियामी ने माना कि टीम का प्रयास यही है कि वह गलतियों को न दोहराये जो उसने 18वें एशियन गेम्स में की थीं और दूसरे नंबर पर रही थी और जापान स्वर्ण विजेता रहा था।

उन्होंने कहा,‘हमने एशियन गेम्स में अच्छा खेल दिखाया था और यदि जीत जाते तो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई कर लेते। लेकिन हमने कुछ गलतियां कीं और अपना लक्ष्य पा नहीं सके।' 19 साल की मिजोरम की खिलाड़ी ने साथ ही बताया कि हॉकी इंडिया ने खिलाड़यिों को मदद करने के लिये कई राष्ट्रीय कैंप आयोजित किये हैं ताकि टीम एफआईएच फाइनल्स में अच्छा प्रदर्शन कर सके। उन्होंने कहा, ‘हमने विशेष ट्रेनिंग कैंपों में दिन प्रतिदिन अपने खेल में सुधार किया है जिसमें कई तकनीक सीखी हैं। हम अब काफी मजबूत हुए हैं।' 

.
.
.
.
.