Sports

पार्ल : भारतीय कप्तान केएल राहुल ने मंगलवार को संकेत दिये कि दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले एकदिवसीय मैच में वह शिखर धवन के साथ पारी का आगाज कर सकते हैं तथा तीन मैचों की इस श्रृंखला के दौरान ऑलराउंडर वेंकटेश अय्यर को अतिरिक्त तेज गेंदबाजी विकल्प के तौर पर तैयार किया जा सकता है, जिसकी कमी टीम को हार्दिक पंड्या के चोटिल होने के बाद से ही खल रही है।

Sports

राहुल की संवाददाताओं से बातचीत से स्पष्ट संकेत मिलते हैं कि रुतुराज गायकवाड़ को अपनी बारी के लिए इंतजार करना पड़ सकता है तथा बोलैंड पार्क की पिच को देखते हुए टीम प्रबंधन दोनों विशेषज्ञ स्पिनरों रविचंद्रन अश्विन और युजवेंद्र चहल को अंतिम एकादश में रख सकता है। पिछले 12-15 महीनों में मैंने बल्लेबाजी क्रम में विभिन्न स्थानों पर बल्लेबाजी की है क्योंकि उस समय टीम मुझसे वही चाहती थी। अब रोहित (शर्मा) की अनुपस्थिति में मैं शीर्ष क्रम में बल्लेबाजी करूंगा।

पिछले दो वर्षों में हार्दिक के चोटिल होने के कारण छठे गेंदबाजी का विकल्प भारतीय टीम के लिए सरदर्द बना हुआ है और अब टीम प्रबंधन वेंकटेश को आजमाने को लेकर उत्साहित है। राहुल ने कहा कि वेंकटेश अय्यर जब से आईपीएल में केकेआर के लिए खेले हैं, तब से उन्होंने उत्साहजनक प्रदर्शन किया है। वह न्यूजीलैंड के खिलाफ टी20 श्रृंखला के लिए हमारे साथ जुड़े और उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया। तेज गेंदबाजी आलराउंडर हमेशा टीम के लिये अहम होता है और हम शुरू से तेज गेंदबाजी ऑलराउंडर चाहते थे क्योंकि उससे टीम में संतुलन पैदा होता। यह वेंकटेश के लिये शानदार मौका है और वह नेट्स पर अच्छा खेल दिखा रहा था।

राहुल ने इसके कहा कि वह चाहते हैं कि अनुभवी धवन गेंदबाजों पर हावी होकर खेलें। उन्होंने कहा कि वह सीनियर और अनुभवी खिलाड़ी हैं और जानते हैं कि टीम उनसे क्या चाहती है। वह यहां आकर अपनी क्रिकेट का आनंद ले रहे हैं। मैं स्वयं शिखर को वनडे में खेलते हुए और गेंदबाजों पर हावी होते हुए देखने का लुत्फ उठाता रहा हूं। मैं चाहता हूं कि वही करें जैसा वह करते रहे हैं।

राहुल पहले दो मैचों के लिए दोनों स्पिनरों अश्विन और चहल को टीम में रखने के पक्षधर हैं। उन्होंने कहा कि हमारे पास शानदार स्पिनर हैं और अश्विन ने वनडे टीम में वापसी की है। हम सभी उनकी क्षमताओं से अच्छी तरह अवगत हैं। चहल पिछले कई वर्षों से अपनी भूमिका अच्छी तरह से निभा रहा है। पिच से स्पिनरों को मदद मिलने की संभावना है और ऐसे में ये दोनों हमारे लिये बेहद महत्वपूर्ण होंगे। 

.
.
.
.
.