Sports

नई दिल्ली : पिछले 18 महीने में सिर्फ एक टेस्ट शतक जडऩे वाले केएल राहुल को आखिरकार भारतीय क्रिकेट की टेस्ट टीम से बाहर होना पड़ा। बीसीसीआई चीफ सिलेक्टर ने वीरवार को एक बैठक के बाद प्रेस वार्ता दौरान इसका खुलासा किया। प्रसाद ने केएल राहुल की खराब फॉर्म का हवाला देते हुए कहा कि कर्नाटक के इस बल्लेबाज को पर्याप्त मौके मिले लेकिन फार्म में गिरावट के कारण समिति को बदलाव के लिए बाध्य होना पड़ा। उन्होंने कहा-निश्चित तौर पर हमने लोकेश राहुल को बता दिया है। वह बेजोड़ प्रतिभा है और दुर्भाग्य से लाल गेंद के क्रिकेट में उनकी फार्म में गिरावट आई है।

KL Rahul showed way to Chief Selector, do it all, take a place in the team

प्रसाद ने कहा- शिखर धवन और मुरली विजय के जाने के बाद, हम टीम के दोनों सलामी बल्लेबाजों को नहीं बदल सकते। किसी को बरकार रहना होगा। और संभवत: मौजूदा सीनियर खिलाडिय़ों में लोकेश राहुल को अधिक मौके मिले। दुर्भाग्य से वह निरंतर प्रदर्शन नहीं कर रहा है। उसने टुकड़ों में योगदान दिया है और यही कारण है कि हमने उसका समर्थन किया क्योंकि जब वह लय में होता है तो उसे देखना शानदार होता है।

KL Rahul showed way to Chief Selector, do it all, take a place in the team

राहुल के भविष्य के बारे में पूछने पर प्रसाद ने वीवीएस लक्ष्मण का उदाहरण दिया। प्रसाद ने कहा- वीवीएस लक्ष्मण को जब एक बार भारतीय टीम से बाहर किया गया तो वह घरेलू क्रिकेट खेलने गया। रणजी ट्राफी में 1400 रन बनाए और वापसी की। लोकेश राहुल को भी ऐसा ही करना होगा। चयनकर्ताओं ने संकेत दिए कि उन्होंने सलामी बल्लेबाजों का पूल तैयार कर लिया है और जिसे भी मौका मिले उसे राहुल की तरह पर्याप्त मौके मिलेंगे। आलराउंडर हार्दिक पंड्या को टीम में शामिल नहीं किया गया क्योंकि भारतीय हालात में उन्हें अंतिम एकादश में जगह मिलने की संभावना काफी कम थी। 

.
.
.
.
.