Sports

मस्कट : इंग्लैंड के पूर्व कप्तान केविन पीटरसन का मानना है कि विराट कोहली के टेस्ट कप्तानी छोड़ने के फैसले का एक कारण जैव सुरक्षित वातावरण (बायो बबल) का कठोर जीवन हो सकता है और उन्होंने तीनों प्रारूपों की कप्तानी रोहित शर्मा को सौंपने की वकालत की। कोहली ने दक्षिण अफ्रीका से भारत की 1-2 श्रृंखला हारने के बाद टेस्ट कप्तानी से हटकर क्रिकेट जगत को चौंका दिया था। उन्होंने पिछले साल विश्व कप के बाद टी20 टीम की कप्तानी छोड़ दी थी और बाद में उन्हें एकदिवसीय टीम के कप्तान पद से हटा दिया गया था। 

इस बीच भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) के साथ उनके रिश्ते भी तनावपूर्ण रहे। पीटरसन ने कहा, ‘जो लोग आज के जमाने के खिलाड़ियों की आलोचना करते हैं, मुझे लगता है कि वे मूर्ख हैं क्योंकि बायो बबल में खेलना बहुत मुश्किल है।' उन्होंने कहा, ‘किसी के प्रति कठोर रवैया अपनाना, आलोचना करना अनुचित होगा। आपने विराट कोहली को नहीं देखा है। कोहली को दर्शकों की जरूरत है। वह ऐसे माहौल में अच्छा प्रदर्शन करता है।' 

पीटरसन ने कहा, ‘मेरी निजी राय है कि उनके जैसे खिलाड़ी के लिए इस बायो बबल में अपनी क्षमताओं का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना मुश्किल है।' कोहली के सभी प्रारूपों की कप्तानी छोड़ने से पीटरसन हैरान नहीं हैं। उन्होंने कहा, ‘कई खिलाड़ियों को नुकसान हुआ है। यह (खेलना) दुनिया का सबसे अच्छा काम है, लेकिन जब आप बायो बबल में खेलते हैं, तो निश्चित रूप से यह सबसे अच्छा काम नहीं रह जाता है क्योंकि इसमें कोई आनंद नहीं है।' 

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान ने कहा, ‘मैं वास्तव में हैरान नहीं हूं कि विराट उस अतिरिक्त दबाव से थोड़ा निजात चाहते हैं क्योंकि बायो बबल में खेलना बहुत मुश्किल है।' इंग्लैंड के पूर्व कप्तान ने इसके साथ ही कहा कि रोहित शर्मा को तीनों प्रारूपों में भारत की कमान सौंपनी चाहिए। रोहित के चोटिल होने के कारण दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ वर्तमान एकदिवसीय श्रृंखला में केएल राहुल कप्तानी कर रहे हैं। 

उन्होंने कहा, ‘मुझे हिटमैन रोहित शर्मा पसंद है। वह शानदार खिलाड़ी है। मैं हमेशा उसकी बल्लेबाजी का लुत्फ उठाता हूं। उसकी कप्तानी में मुंबई इंडियन्स ने बहुत अच्छा प्रदर्शन किया है, इसलिए वह कप्तानी की दौड़ में सबसे आगे है।' 

.
.
.
.
.