Sports

नई दिल्ली : क्रिकेट के सबसे छोटे प्रारूप (टी20) में गेंदबाजों के लिए परिस्थितियां काफी मुश्किल और चुनौतीपूर्ण हो सकती है लेकिन पहली बार इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में भाग ले रहे ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज झाय रिचर्डसन ने इस तनाव से निपटने का नायाब तरीका खोजा है जिसमें वह गेंदबाजी के लिए दौड़ने से पहले ‘मुस्कुराएंगे'। इस 24 साल के क्रिकेटर के लिए बिग बैश लीग में यह तरीका कारगर रहा था जहां वह सत्र में सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज बने थे।

रिचर्डसन का मानना है कि छक्का लगाने के बाद भी अगर उनके चेहरे पर मुस्कान रहती है तो दुनिया के सबसे बड़े टी20 लीग में खेलने के दबाव से निपटने में यह उनके लिए हमेशा मददगार होगा। ऑस्ट्रेलिया के लिए दो टेस्ट, 13 एकदिवसीय और 14 टी20 अंतरराष्ट्रीय खेल चुके रिचर्डसन को पंजाब किंग्स ने आईपीएल नीलामी में 14 करोड़ रूपये में टीम में शामिल किया था। वह मोहम्मद शमी के साथ तेज गेंदबाजी आक्रमण की अगुवाई करेंगे। पंजाब किंग्स को उनसे आखिरी ओवरों में बेहतर गेंदबाजी की उम्मीद होगी जो पिछले सत्र में टीम की कमजोर कड़ी थी।

रिचर्डसन ने कहा कि मैं मैदान में जाकर खेल का लुत्फ उठाना चाहता हूं। यह कहना आसान है लेकिन करना काफी मुश्किल है क्योंकि आप दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज को गेंदबाजी कर रहे होंगे। अगर मैं रनअप मार्क (सिर्फ गेंदबाजी के लिए दौड़ने से पहले) पर मुस्कुरा सकूं तो यह मेरे लिए एक बड़ी बात होगी। मैंने वास्तव में इस पर (गेंदबाजी से पहले मुस्कुराहट) बिग बैश के दौरान काम करना शुरू किया था। यह मुस्कुराहट इस लिये भी रखनी है ताकि मैं खुद को यह भरोसा दिला सकूं कि यह मजेदार होगा।

पिछले साल कंधे की सर्जरी के बाद खेल में वापसी करने वाले रिचर्डसन ने कहा कि कभी-कभी खराब गेंदबाजी के बाद वह खुद पर बहुत अधिक दबाव डालता है। रिचर्डसन टीम में वेस्टइंडीज के शेलडन कोटरेल की जगह शामिल हुए है। कोटरेल के खिलाफ पिछले सत्र में राहुल तेवतिया ने एक ओवर में पांच छक्के जड़े थे। रिचर्डसन ने कहा कि कई बार अच्छी गेंदबाजी के बाद भी आपके खिलाफ छक्का लग सकता है। उससे निपटने के लिए उसी पल आपको तरीका खोजना होगा। मेरे लिए अच्छी बात यह है कि बिग बैश में मैं शायद वह व्यक्ति था जिसे मुश्किल परिस्थितियों में गेंदबाजी की जरूरत थी। उसके साथ अनुभव भी आता है।

उन्होंने कहा कि मैं निश्चित रूप से अपने बारे में और अधिक आश्वस्त हो रहा हूं और आखिरी ओवरों में बेहतर गेंदबाजी की क्षमता का समर्थन कर रहा हूं। रिचर्डसन टीम के साथ बड़ी रकम में जुड़ने के बाद अपने प्रदर्शन को लेकर दबाव में थे लेकिन मुख्य कोच अनिल कुंबले से बातचीत के बाद उनकी परेशानी दूर हो गई। उन्होंने कहा कि मैंने खुद पर दबाव बनाना शुरू कर दिया (नीलामी में बड़ी रकम हासिल करने पर)। कल मैंने अनिल के साथ एक अच्छी बातचीत की, और उन्होंने कहा, ‘आप जानते हैं कि हमने आपकी सेवाओं के लिए आपके लिए उस रकम की बोली लगायी है जो आप मैदान पर करते है। उन्होंने कहा कि मेरे लिए यह जानना जरूरी था कि कोच ने किसी कारण से मुझे चुना है और मैं जानता हूं कि मुझ मे वह क्षमता है।

.
.
.
.
.