Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : दिल्ली कैपिटल्स की टीम मुंबई इंडियंस के हाथों 5 विकेट से मैच हार का सामना करना पड़ा। इस मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए दिल्ली की टीम ने मुंबई के सामने 160 रन का लक्ष्य रखा। इस लक्ष्य को मुंबई की टीम ने 19.1 ओवर ही में 5 विकेट गंवाकर हासिल कर लिया। इस हार के साथ ही दिल्ली कैपिटल्स प्लेऑफ की रेस बाहर हो चुकी है और बेंगलुरु की टॉप चार में एंट्री हो गई है। तो आईए आपको बताते हैं कि दिल्ली कैपिटल्स की उन गलितयों के बारें जिस कारण वह मैच हार गई और प्लेऑफ से बाहर हो गई।

टॉप ऑर्डर का फेल होना

दिल्ली कैपिटल्स को डेविड वार्नर और पृथ्वी शॉ लगातार अच्छी ओपनिंग पार्टनरशिप देते आ रहे थे। पर मुंबई इंडियंस के खिलाफ अहम मैच में दोनों ही बल्लेबाज टीम को अच्छी शुरूआत देने में नाकाम रहे और सस्ते में पवेलियन लौट गए। वार्नर 5 और शॉ 24 रन बनाकर आउट हुए। 
 
पॉवप्ले में गंवाए 3 अहम विकेट

दिल्ली कैपिटल्स की टीम ने पावरप्ले में ही अपनी टीम के महत्वपूर्ण बल्लेबाजों के विकेट गंवा दिए। दिल्ली का पहला विकेट वार्नर के रूप में गिरा, वह 5 रन बनाकर आउट हुए। उसके बाद चौथे ओवर में मार्श शून्य पर आउट हो गए। वहीं पावरप्ले के खत्म होने से पहले ही शॉ भी 24 रन बनाकर आउट हो कर चलते बने।

नहीं निकाल पाए बुमराह का तोड़

दिल्ली कैपिट्ल्स के बल्लेबाजों के पास मुंबई इंडियंस के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह की आग उगलती हुई गेंदों का कोई जवाब नहीं था। बुमराह ने दिल्ली के खिलाफ अपने 4 ओवर के स्पैल में 25 रन दिए और 3 विकेट अपने नाम किए। बुमराह ने पृथ्वी शॉ, मिचेल मार्श और रोवमैन पॉवेल को अपना शिकार बनाया।

ऋषभ पंत का ब्रेविस का कैच छोड़ना

PunjabKesari

लक्ष्य का पीछा करने आई दिल्ली के गेंदबाजों ने मुंबई के बल्लेबाजों को रन बनाने से रोके रखा। पर इस दौरान दिल्ली के कप्तान ऋषभ पंत ने डिवाल्ड ब्रेविस का एक आसान कैच छोड़ दिया। इसके बाद ब्रेविस ने 37 रन की पारी खेली जिसमें उन्होंने 3 छक्के लगाए।

टिम डेविड के खिलाफ नहीं लिया रिव्यू

बल्लेबाजी के लिए आए टिम डेविड अभी क्रीज पर आए ही थे कि उनके बल्ले से एक महीन सा किनारा लगा। इस पर ऋषभ पंत ने रिव्यू लेने का फैसला नहीं किया। जबकि स्निको मीटर में साफ दिखाई दे रहा था कि बल्ले ने गेंद का किनारा लिया था। इसके बाद टिम डेविड ने 11 गेंदों पर 2 चौके और 4 छक्के की मदद से 34 रन की तूफानी पारी खेली और मुंबई को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई।

.
.
.
.
.