Sports

पुणे : भारत ने दक्षिण अफ्रीका की पहली बार ऐतिहासिक फॉलोआन खेलने के लिए मजबूर किया और गेंदबाजों के दमदार प्रदर्शन से दूसरा टेस्ट चौथे ही दिन रविवार को पारी और 137 रन से जीतकर तीन मैचों की सीरीज में 2-0 की अपराजेय बढ़त बना ली। भारत की दक्षिण अफ्रीका पर यह सबसे बड़ी जीत है और इसके साथ ही भारत ने फ्रीडम ट्रॉफी पर कब्ज़ा कर लिया। भारत ने आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप में यह लगातार चौथी जीत हासिल की है। भारत को इस जीत से 40 अंक मिले और अब उसके 200 अंक हो गए हैं। टेस्ट चैंपियनशिप में 200 अंकों का आंकड़ा छूने वाली भारत पहली टीम बन गई है। भारत ने दक्षिण अफ्रीका को दूसरी पारी में 67.2 ओवर में 189 रन पर ध्वस्त कर दूसरा टेस्ट पारी और 137 रन से जीत लिया। 

Sports

तेज गेंदबाज उमेश यादव ने आठ ओवर में 33 रन पर तीन विकेट, लेफ्ट आर्म स्पिनर रवींद्र जडेजा 21.2 ओवर में 52 रन पर तीन विकेट, ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने 21 ओवर में 45 रन पर दो विकेट, तेज गेंदबाज इशांत शर्मा ने पांच ओवर में 17 रन पर एक विकेट और मोहम्मद शमी ने नौ ओवर में 34 रन पर एक विकेट लिया। भारत ने अपनी पहली पांच विकेट पर 601 रन पर घोषित की थी, जिसमें कप्तान विराट कोहली ने नाबाद 254 रन बनाए थे। दक्षिण अफ्रीका की पहली पारी तीसरे दिन के खेल की समाप्ति पर 275 रनों पर ही सिमट गई। इसके बाद यह सवाल उठ रहा था कि भारत दक्षिण अफ्रीका से फॉलोऑन कराता है या नहीं। लेकिन कप्तान विराट कोहली ने चौथे दिन की सुबह दक्षिण अफ्रीका को फॉलोऑन खेलने पर मजबूर कर दिया।

दक्षिण अफ्रीका के लिए यह फॉलोऑन किसी बुरे सपने से कम नहीं था क्योंकि टीम 11 साल बाद फॉलोऑन खेल रही थी। पिछली बार 2008 में इंग्लैंड के खिलाफ लॉडर्स में दक्षिण अफ्रीका को फॉलोऑन खेलना पड़ा था। भारत ने दक्षिण अफ्रीका को पहली बार फॉलोऑन देकर इतिहास बनाया। विराट का कप्तान के रूप में यह 50वां टेस्ट मैच था और उन्होंने इस मैच में दोहरा शतक जड़कर, दक्षिण अफ्रीका को फॉओऑन देकर और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सबसे बड़ी जीत हासिल कर इस मैच को यादगार बना दिया।

दक्षिण अफ्रीका का दूसरी पारी में बल्लेबाजी प्रदर्शन और भी निराशाजनक रहा। ओपनर डीन एल्गर ने सर्वाधिक 48, तेम्बा बावुमा ने 38, वेर्नोन फिलेंडर ने 37 और केशव महाराज ने 22 रन बनाए। इशांत ने सुबह पहले ही ओवर में एडन मारक्रम को दूसरी गेंद पर पगबाधा कर भारत को पहली सफलता दिलाई। उमेश यादव ने थ्यूनिस डी र्ब्यून को विकेटकीपर रिद्धिमान साहा के हाथों कैच करा दिया। एल्गर और कप्तान फाफ डू प्लेसिस ने तीसरे विकेट के लिए 49 रन की साझेदारी की। अश्विन ने डू प्लेसिस को साहा के हाथों कैच कराकर इस साझेदारी को तोड़ा। डू प्लेसिस 54 गेंद खेलकर मात्र पांच रन ही बना पाए। अश्विन ने एल्गर को अपना दूसरा शिकार बनाकर मेहमान टीम की कमर तोड़ दी। एल्गर ने 72 गेंदों में आठ चौकों की मदद से 48 रन बनाए।

जडेजा ने क्विंटन डी कॉक को बोल्ड कर दक्षिण अफ्रीका का स्कोर पांच विकेट पर 75 रन कर दिया। जडेजा ने बावुमा को भी आउट किया।बावुमा ने 63 गेंदों पर 38 रन में चार चौके और एक छक्का लगाया। दक्षिण अफ्रीका का सातवां विकेट 129 के स्कोर पर गिरा जब शमी ने सेनुरन मुथुसामी को पवेलियन भेज दिया। मुथुसामी ने 44 गेंदों में नौ रन बनाए। फिलेंडर और केशव पहली पारी की तरह दूसरी पारी में भी अड़ गए और आठवें विकेट के लिए 56 रन की साझेदारी कर डाली। लेकिन इस बार दक्षिण अफ्रीका ने अपने अंतिम तीन विकेट चार रन के अंतराल में गंवाए और उसकी पारी सिमट गयी। उमेश ने फिलेंडर और कैगिसो रबादा को और जडेजा ने केशव को आउट किया। फिलेंडर ने 72 गेंदों पर 37 रन में दो चौके और दो छक्के लगाए जबकि केशव ने 65 गेंदों पर 22 रन में तीन छक्के लगाए। दक्षिण अफ्रीका को इस तरह 2010 के बाद भारत के हाथों पहली पारी की हार का सामना करना पड़ा। 

.
.
.
.
.