Sports

नई दिल्ली : भारत की सबसे तेज महिला धाविका दुती चंद ने गुरुवार को विदेशी मंत्री एस जयशंकर से आग्रह किया कि वह उन्हें वीजा दिलाने में मदद करें जिससे विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में क्वालीफाई करने के अभियान के तहत वह यूरोप में कुछ प्रतियोगिताओं में हिस्सा ले सकें। हाल में विश्व विश्वविद्यालय खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली भारत की पहली महिला ट्रैक एवं फील्ड खिलाड़ी बनी दुती को आईएएएफ से स्वीकृत 100 मीटर की दो फर्राटा दौड़ में 13 अगस्त को आयरलैंड और 19 अगस्त को जर्मनी में हिस्सा लेना था लेकिन उन्हें अब तक वीजा नहीं मिला है।

इस 23 वर्षिय धाविका ने ट्वीट किया, ‘आयरलैंड और जर्मनी में क्रमश: 13 और 19 अगस्त को होने वाले आईएएएफ के टूर्नामेंटों में हिस्सा लेना चाहती हूं। कुछ कारणों से मेरी वीजा औपचारिकताएं पूरी नहीं हो सकी। डा. एस जयशंकर और विदेश मंत्रालय से आग्रह करती हूं कि जितना जल्दी संभव हो हस्तक्षेप करें और प्रतियोगिता में हिस्सा लेने में मेरी मदद करें।' सूत्रों ने हालांकि कहा कि दुती ने पिछले हफ्ते वीजा के लिए आवेदन किया है और उन्होंने शुक्रवार को भारत से रवाना होने की योजना बनाई है। सूत्र ने कहा, ‘इस साल होने वाली विश्व चैंपियनशिप और ओलंपिक में क्वालीफाई करने के लिए वह यूरोप में दौड़ना चाहती है लेकिन धनराशि समस्या है। कोई भी पैसा देने के लिए आगे नहीं आ रहा। अंतत: भुवनेश्वर का कलिंग इंस्टीट्यूट आफ इंडस्ट्रियल टेक्नोलाजी यूरोप में उसके दो हफ्ते की यात्रा में वित्तीय सहयोग के लिए तैयार हुआ।'

सूत्र ने कहा, ‘इसलिए उसने पिछले हफ्ते के मध्य में वीजा के लिए आवेदन किया और अब वीजा का इंतजार कर रही है। अब भी समय है लेकिन काफी नहीं और उम्मीद करते हैं कि उसे अगले कुछ दिनों में वीजा मिला जाएगा जिससे वह इन प्रतियोगिताओं में हिस्सा ले सके।' दुती कलिंग इंस्टीट्यूट आफ इंडस्ट्रियल टेक्नोलाजी की छात्रा भी है। विश्व चैंपियनशिप का क्वालीफाइंग समय 11.24 सेकेंड जबकि 2020 तोक्यो ओलंपिक का 11.15 सेकेंड है। दुती का निजी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन और राष्ट्रीय रिकार्ड 11.26 सेकेंड का है। 

.
.
.
.
.