Sports

नई दिल्ली : भारतीय महिला हॉकी टीम की ड्रैग फ्लिकर गुरजीत कौर ने कहा कि टोक्यो ओलिम्पिक में चौथे स्थान पर रहने के बाद उनकी टीम निडर हो गई है। टोक्यो में टीम के शानदार प्रदर्शन के सूत्रधारों में रही गुरजीत को वर्ष 2020-21 के लिए एफआईएच की सर्वश्रेष्ठ महिला खिलाड़ी के पुरस्कार के लिए नामांकित किया गया है।

गुरजीत ने आस्ट्रेलिया के खिलाफ क्वार्टर फाइनल में 1-0 से मिली जीत में एकमात्र गोल किया था। गुरजीत ने हॉकी इंडिया द्वारा जारी विज्ञप्ति में कहा कि हम मामूली अंतर से पदक से चूक गए लेकिन इस बेहतरीन अभियान से बहुत सारी सकारात्मक बातें रही। लोगों ने हमारा खेल देखना शुरू कर दिया और मुझे यकीन है कि हमारे प्रदर्शन से युवाओं को हॉकी खेलने की प्रेरणा मिलेगी।

टोक्यो ओलिम्पिक से भारतीय हॉकी के एक नए युग का आगाज होगा। उन्होंने कहा कि हमारा आत्मविश्वास बढ़ा है और हम निडर हो गए हैं। इससे आने वाले बड़े टूर्नामेंटों में मदद मिलेगी। उम्मीद है कि आगे भी ऐसा ही प्यार और सम्मान मिलता रहेगा।

एफआईएच पुरस्कार के लिए नामांकन पर उन्होंने कहा कि यह उनकी कड़ी मेहनत और कुर्बानियों का फल है। उन्होंने कहा कि मेरे लिए यह बहुत बड़ी उपलब्धि है। विश्व स्तर पर आपकी कड़ी मेहनत और बलिदानों को पहचान मिलना गर्व की बात है। इससे आगे और अच्छे प्रदर्शन की प्रेरणा मिलेगी।

.
.
.
.
.