Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व धमाकेदार आलराउंडर युवराज सिंह ने अपने संन्यास के फैसले पर बात करते हुए कहा कि उन्हें इस बात का कोई भी पछतावा नहीं है। युवराज ने पिछले साल (2019) 10 जून को मुंबई में एक प्रैस कांफ्रेंस आयोजित कर संन्यास की घोषणा की थी। 

संन्यास के फैसले पर बात करते हुए युवराज ने एक मीडिया हाउस से कहा, अपने देश के लिए खेलना एक अकथनीय भावना है और मुझे उस अवसर पर खुशी है। यह एक रोलर कोस्टर की सवारी जैसा था लेकिन अच्छा लगा कि मुझे 28 साल के बाद बनाए गए इतिहास का हिस्सा बनने का मौका दिया। मैं हर उस व्यक्ति का आभारी हूं जो मेरी इस यात्रा में मेरा हिस्सा बना। उन्होंने कहा, मैंने इस खेल (क्रिकेट) को पूरी ईमानदारी के साथ खेला है। 

पूर्व ऑलराउंडर ने कहा, बदले में, मुझे केवल ईमानदारी की उम्मीद थी। मैंने महसूस किया कि यह अनुभव मेरे साथ ही नहीं बल्कि अन्य दिग्गज और बेहद सफल खिलाड़ियों के साथ भी हुआ है। ऐसा समय भी था जब मुझे टीम प्रबंधन से समर्थन की कमी महसूस हुई और एक पेशेवर के रूप में, मैंने इसकी सराहना की कि संचार में स्पष्ट थे। 

उन्होंने कहा, मुझे आगे बढ़ने के अपने फैसले पर कोई पछतावा नहीं है और मैं अगले एक-दो साल तक टी 20 क्रिकेट खेलना जारी रखना चाहता हूं। गौर हो कि युवराज 2007 टी20 वर्ल्ड कप और 2011 वनडे वर्ल्ड कप का हिस्सा थे। युवराज ने अपने करीब 19 साल के क्रिकेट करियर में भारत के लिए 400 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं। 

.
.
.
.
.