Sports

चेन्नई : भारतीय टीम के गेंदबाजी कोच भरत अरुण ने कहा कि शिवम दुबे में अंतरराष्ट्रीय स्तर के अच्छे हरफनमौला बनने के गुण हैं क्योंकि प्रत्येक मैच के साथ उनका आत्मविश्वास बढ़ता जा रहा है। दुबे ने वेस्टइंडीज के खिलाफ तीन मैचों की टी20 श्रृंखला के दूसरे मुकाबले में 30 गेंद में 54 रन की पारी के दौरान बड़े शाट खेलकर सुर्खियां बटोरी। उन्होंने इस पारी में चार छक्के लगाये। इससे पहले बांग्लादेश के खिलाफ श्रृंखला में उन्होंने अच्छी गेंदबाजी की थी।

PunjabKesari

अरुण ने कहा, ‘वह (दुबे) अच्छा खिलाड़ी है और मुझे लगता है कि हर मैच के साथ उसका आत्मविश्वास बढ़ रहा है। अगर आप उसकी गेंदबाजी भी देखेंगे तो उसने वेस्टइंडीज के खिलाफ मुंबई (तीसरे टी20आई) में अपना पहला ओवर डालने के बाद जिस तरह वापसी थी वह शानदार था। महंगे ओवर के बाद भी विराट (कोहली) ने उस पर भरोसा दिखाया ताकि वह अच्छा स्पैल डाल सके।' वेस्टइंडीज के खिलाफ यहां रविवार को खेले जाने वाले एकदिवसीय श्रृंखला के शुरुआती मुकाबले से पहले उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है वह हमारे लिए शानदार प्रतिभा है। जैसे जैसे उसका आत्मविश्वस बढ़ेगा वह अच्छा हरफनमौला बनेगा।' 

भारतीय गेंदबाजी कोच ने इस मौके पर तेज गेंदबाज दीपक चाहर की भी तारीफ करते हुए कहा कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लगातार अच्छा प्रदर्शन करने के लिए उनके पास सब कुछ है। उन्होंने कहा, ‘दीपक ने आईपीएल में भी शानदार प्रदर्शन किया। वह ऐसे खिलाड़ी है जो गेंद को दोनों ओर स्विंग कर सकते हैं। वह काफी कौशल वाले गेंदबाज है जो धीमी बाउंसर और यार्कर फेंक सकते है। इतनी प्रतिभा के साथ उनके पास वो सब कुछ है जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सफल होने के लिए चाहिए।' विश्व कप के बाद से कलाई के स्पिनर कुलदीप यादव और युजवेन्द्र चहल एक साथ टीम में नहीं दिखे है। 

अरुण ने कहा, ‘हम एक आदर्श संयोजन को बनाने की कोशिश कर रहे है जो टीम को पूर्ण संतुलन प्रदान करें। हमारे पास रविंद्र जडेजा को हरफनमौला की तरह इस्तेमाल करने का विकल्प होगा। इससे हमें काफी मदद मिलेगी।' एकदिवसीय श्रृंखला में भारतीय गेंदबाजों के लिए वेस्टइंडीज के बल्लेबाजों की चुनौती के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘पिछले तीन में से जो दो मैच हम जीते है उसमें गेंदबाजों का प्रदर्शन शानदार रहा है। वेस्टइंडीज की टीम काफी प्रतिस्पर्धी है लेकिन जब उनके बल्लेबाज आक्रामक रुख अख्तियार करते हैं तब आपके पास भी विकेट लेने का मौका होता है।' 

.
.
.
.
.