Sports

नई दिल्ली : सीजन में 7वां मैच गंवाने के बाद चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी निराश दिखे। उन्होंने मैच के बाद कहा- पिच तेज गेंदबाजों के लिए मुश्किल हो रही थी। जडेजा को इसीलिए 18वें ओवर में लाया ताकि देख सकूं कि गेंद कितना रुक रही है। यह पहली पारी में ज्यादा नहीं था। मैं शुरू से तेज गेंदबाजों के साथ जाना चाहता था फिर स्पिनरों पर ताकि गेंद थोड़ी पुरानी हो जाए।

PunjabKesari

धोनी बोले- हम लाखों लोगों के सामने खेलते हैं इसलिए छिपाने के लिए कुछ भी नहीं है। आप टीम में कुछ बदलाव नहीं चाहते। क्योंकि जो कुछ होता है वह तीन-चार-पांच खेलों के बाद होता है। आप कभी कुछ भी सुनिश्चित नहीं कर सकते। आप लोगों को एक उचित समय देना चाहते हैं, यदि वे प्रदर्शन नहीं कर रहे हैं तो आप स्विच करते हैं और किसी और के पास जाते हैं।

PunjabKesari

धोनी बोले- असुरक्षा वह चीज है जिसे आप ड्रेसिंग रूम में नहीं रखना चाहते हैं। पर्याप्त रूप से इस सीजन में हम वास्तव में वहां नहीं थे। हमारे पास कुछ युवाओं के लिए मौके थे। लेकिन हमें कोई ऐसी चिंगारी नहीं दिखी जो कि अनुभवी लोगों को पुश कर अपनी जगह बना लेते हैं। उन्हें (युवाओं को) एक मौका मिलेगा और उन पर कोई वास्तविक दबाव नहीं होगा ताकि वे बाहर जाकर खुद को अभिव्यक्त कर सकें। और हमें बल्लेबाजी लाइनअप में या जहां वे बल्लेबाजी करना चाहते हैं, अन्य विकल्पों को देखने का विकल्प देंगे।

.
.
.
.
.