Sports

मामल्लापुरम,( निकलेश जैन ) 44वें शतरंज ओलिम्पियाड में चौंथा दिन भारत के लिए एक बार फिर अच्छा ही रहा ,हालांकि आज के दिन भारत की पुरुष की प्रमुख टीम को फ्रांस नें ड्रॉ पर रोक लिया पर भारत की युवा टीम बी नें इटली को हराकर प्रतियोगिता में बढ़त कायम कर ली है जबकि महिलाओं की प्रमुख टीम नें हंगरी को हराकर तो सी टीम नें एस्टोनिया को हराकर लगातार अपनी चौंथी जीत हासिल की । पुरुष टीम सी को स्पेन से तो महिला सी टीम को जॉर्जिया के हाथो अपनी पहली हार का सामना करना पड़ा है ।

गुकेश निहाल के कमाल से इटली हुआ बेहाल

PunjabKesari

भारत की युवा टीम नें आज कल विश्व चैम्पियन कार्लसन की टीम को हराकर उलटफेर करने वाली इटली को 3-1 से पराजित करते हुए लगातार अपनी चौंथी जीत हासिल की है , गुकेश नें पहले बोर्ड पर टीम का नेत्तृत्व करते हुए इटली के शीर्ष खिलाड़ी डेनियल वोकातुरों को पराजित किया जबकि दूसरे बोर्ड पर निहाल सरीन नें लूका मोरोनी को मात देकर टीम की जीत तय कर दी , प्रग्गानंधा नें लोदीकी लोरेंज़ो से रौनक साधवानी नें सोनिस फ्रान्सेस्को से बाजी ड्रॉ खेली । इस जीत के बाद 8 मैच अंक और 15 गेम अंक के साथ अब यह टीम पहले स्थान पर पहुँच गयी है ।

तानिया की जीत से जीता भारत

PunjabKesari

महिला वर्ग के प्रमुख मुक़ाबले में हंगरी की कठिन टीम के सामने भारत नें आज नजदीकी जीत दर्ज की । शीर्ष खिलाड़ी कोनेरु हम्पी ,हरिका द्रोणावल्ली और आर वैशाली के मुक़ाबले ड्रॉ रहने के बाद दोनों टीम का स्कोर 1.5-1.5 से बराबर था ऐसे में तानिया नें कमाल के खेल दिखाते हुए हंगरी की युवा खिलाड़ी जोका गाल को पराजित करते हुए टीम को 2.5-1.5 से एक बेहद महत्वपूर्ण जीत दिला दी ।

भारत की आज दोनों सी टीम को हार का सामना करना पड़ा जिसमें पुरुष टीम को स्पेन नें 1.5-2.5 से तो महिला टीम को जॉर्जिया से 1-3 से शिकस्त मिली ।

पुरुष टीम को फ्रांस नें चौंकाया

PunjabKesari

दूसरी वरीय भारत की प्रमुख टीम को आज 15वीं वरीय फ्रांस नें ड्रॉ पर रोक लिया , पेंटाला हरीकृष्णा ,विदित गुजराती , अर्जुन एरिगासी और एसएल नारायनन नें अपनी बाजिया ड्रॉ खेली ।

उलटफेर

PunjabKesari

पुरुष वर्ग में टॉप सीड यूएसए को 14वे वरीय उज्बेकिस्तान टीम नें 2-2 से बराबर पर रोकते हुए बड़ा झटका दिया तो पोलैंड को रोमानिया नें , टर्की नें अजरबैजान को 2-2 पर रोका जबकि नीदरलैंड को इज़राइल नें 2.5-1.5 से हराकर चौंका दिया ।

.
.
.
.
.