Sports

साउथम्पटन : इंग्लैंड के तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड ने पाकिस्तान के खिलाफ मैनचेस्टर में पहले टेस्ट मैच में यासिर शाह पर अपशब्द कहने को लेकर उन पर जुर्माना लगाने वाले अपने पिता और मैच रेफरी क्रिस ब्रॉड को अपनी क्रिसमस कार्ड सूची से ही बाहर कर दिया है। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) के मैच रेफरी क्रिस ब्रॉड ने स्टुअर्ट ब्रॉड पर पहले टेस्ट में यासिर शाह का विकेट गिरने के बाद अभद्र भाषा का प्रयोग करने को लेकर मैच फीस का 15 फीसदी जुर्माना लगाया था और उन्हें एक डी मेरिट अंक भी दिया था।

यह पहला मौका था जब किसी खिलाड़ी पर उसके पिता ने जुर्माना लगाया था। इंग्लैंड ने यह मैच चौथे दिन ही तीन विकेट से जीतकर तीन मैचों की सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली है। इंग्लैंड की बार्मी आर्मी के समर्थकों ने मंगलवार को जब ब्रॉड पर लगे जुर्माने की खबर को ट्वीट किया तब ब्रॉड ने कुछ मजाकिया अंदाज में इस बात का इस तरह जवाब दिया, ‘मेरे पिता अब मेरी क्रिसमस कार्ड और उपहार देने वालों की सूची से बाहर हो गए हैं।'

क्रिस ब्रॉड आमतौर पर उन मैचों में संचालन नहीं करते हैं जिनमें उनका बेटा स्टुअर्ट खेल रहा होता है लेकिन कोरोना के कारण लगे यात्रा प्रतिबंधों की वजह से वह इंग्लैंड के सभी छह घरेलू मैचों में मैच रेफरी की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। ब्रॉड को 24 महीने के अंदर तीसरा डिमेरिट अंक दिया गया है।

इससे पहले 19 अगस्त 2018 को भारत के खिलाफ ट्रेंट ब्रिज के तीसरे टेस्ट और इस साल 27 जनवरी को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ चौथे टेस्ट में भी नियम का उल्लंघन को लेकर उन्हें डिमेरिट अंक दिया गया था। यदि वह गुरूवार से साउथम्पटन में शुरू होने वाले दूसरे टेस्ट में एक और डी मेरिट अंक पा जाते हैं तो उन्हें एक मैच का निलंबन झेलना पड़ेगा। 

.
.
.
.
.