Sports

खेल डैस्क : ऑस्ट्रेलियाई पूर्व तेज गेंदबाज बे्रट ली क्रिकेट ग्राऊंंड से रिटायरमैंट लेने के बाद अब क्रिकेट एक्सपर्ट के रूप में अपने फैंस से रूबरू रहते हैं। ब्रैट ली ने यूट्यूब पर अपने पर्दापण टेस्ट में घटे रोचक घटनाक्रम के बारे में फैंस को बताया है। ब्रेट ली ने बताया कि किस तरह तेज गेंदबाज ग्लेन मैकग्रा के प्रैंक की वजह से वह हादसे का शिकार हो चले थे। उन्होंने आशंका जताई कि अगर उन्हें कुछ हो जाता तो उनका टेस्ट करियर शुरू होने से पहले ही खत्म हो जाता। 

ब्रेट ली ने कहा- 1999 का बॉक्सिंग डे टेस्ट चल रहा था। मैं मैक्ग्रा और गिलक्रिस्ट के बीच में बैठा था। गिली मेरा उत्साह बढ़ा रहे थे। मैं उनकी बातें सुन रहा था। मेरी नजरें मैदान पर थी। मैक्ग्रा मेरे बगल में बैठे थे जिन्होंने मेरे जूतों की लेस आपस में बांध दी। मैं जब उठा ते मुंह के बल गिर पड़ा। मैं ठीक था नहीं तो मेरा टेस्ट करियर शुरू होने से पहले ही खत्म हो जाता।

Brett Lee, Glenn Mcgrath, Team india, cricket news in hindi, sports news, ब्रेट ली, ग्लेन मैकग्राथ, टीम इंडिया, क्रिकेट समाचार हिंदी में, खेल समाचार

ली ने इस दौरान मैकग्रा को अपना मेंटर बताया। उन्होंने कहा- वह पूरा दिन गेंद को एक टुकड़े पर फेंक सकते थे। यह सब वह अपने लंबे कद और सटीक लाइन के कारण कर पाते थे। यहां तक कि वह मैकग्रा ही थे जिन्होंने मुझे मेरा एक्शन संवारने में मदद की। उन्होंने गेंदबाजी स्पेल के दौरान मुझे लाइन-लेंथ बरकरार रखने के बारे में बताया।

ली ने याद किया कि टीम मीटिंग के दौरान वो दोनों इस बारे में विचार करते थे कि दिग्गज बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर और ब्रायन लारा को किस तरह आउट करना है। वह अक्सर कहते थे- अच्छी बाउंसर, अच्छी यॉर्कर, ऑफ स्टंप के ऊपर गेंद रखो। उन्होंने अपने पूरे करियर में ऐसा ही किया और सफल भी रहे। 

Brett Lee, Glenn Mcgrath, Team india, cricket news in hindi, sports news, ब्रेट ली, ग्लेन मैकग्राथ, टीम इंडिया, क्रिकेट समाचार हिंदी में, खेल समाचार

ब्रेट ली ने इस दौरान ग्लेन मैकग्रा का अच्छा पक्ष भी सामने रखा। उन्होंने कहा- मैकग्रा मैदान पर भले ही आक्रमक थे लेकिन असल जिंदगी में अलग व्यक्ति थे। उन्होंने मैक्ग्रा फाउंडेशन के जरिए ब्रेस्ट केयर नर्सेस के लिए पैसे इक_ा किया। वो सुपरस्टार हैं।

बता दें कि मैकग्रा और ली ने 2000 से लेकर 2007 तक ऑस्टे्रलिया की तेज गेंदबाजी आक्रमण को संभाला। दोनों ने मिलकर अपने अंतरराष्ट्रीय करियर में 1600 से ज्यादा विकेट लिए।

.
.
.
.
.