Sports

माउंट मोनगानुई: भारतीय तेज गेंदबाज शार्दुल ठाकुर ने कहा कि न्यूजीलैंड में सफल होने के लिये मैदान को समझना और तेज हवाओं के अनुकूल गेंदबाजी करना बेहद जरूरी है। ठाकुर ने कहा, ‘न्यूजीलैंड जैसे मैदान कहीं नहीं हैं। इन्हें समझना जरूरी है । हर मैच में गेंदबाज को अपनी रणनीति बदलनी पड़ती है। आकलैंड में सामने की बाउंड्री छोटी थी जबकि हैमिल्टन में साउड बाउंड्री छोटी थी। हर मैदान का आकार अलग है और उसको समझना जरूरी है। अगले मैच में मैदान बड़ा है।' 

ठाकुर ने कहा कि हालात के कारण न्यूजीलैंड में क्रिकेट खेलना काफी कठिन है। उन्होंने कहा, ‘यह काफी मुश्किल है क्योंकि इस तरह के मैदानों पर आप रोज नहीं खेलते। यही वजह है कि न्यूजीलैंड में क्रिकेट खेलना आसान नहीं है। नेट पर अभ्यास करते समय आपको ऐसे ही गेंदबाजी करनी होती है मानो अगले दिन गेंदबाजी करनी है।'

ठाकुर ने आगे कहा, ‘मानसिक रूप से भी तैयारी जरूरी है क्योंकि ऐसा नहीं करने पर विरोधी टीम आपको चौका देगी। उनके बल्लेबाज हवा और शार्ट साउड का पूरा फायदा उठाते हैं।' भारतीय टीम का लक्ष्य वाइटवाश से बचना होगा और ठाकुर ने कहा कि उनकी टीम खुलकर खेलेगी। उन्होंने कहा, ‘अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में हर खिलाड़ी के लिए हर मैच अहम है। दो मैचों में पिछड़ने के बाद अब आपके पास और खुलकर खेलने का मौका है ।बल्लेबाज अपने शाट खेल सकते हैं और अपना स्वाभाविक खेल दिखा सकते हैं।'

.
.
.
.
.