Sports

स्पोर्ट्स डेस्क: भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को कैप्टन कूल के नाम से भी जाना जाता है। इसका कारण है कि वह खेल के दौरान मैदान पर शांत रहते है और गुस्से को अपने खेल पर हावी नहीं होने देते। लेकिन कई बार ऐसा हुआ है जब धोनी खुद को कूल नहीं रख पाए और मैदान पर भड़के हुए दिखाई दिए। आज धोनी अपना 39वां जन्मदिन मना रहे हैं तो आईए जानते हैं वह 7 वाक्य जब धोनी कूल नहीं रह पाए। 

PunjabKesari

1. विश्व कप 2011 के फाइनल मैच में भारत को जीत के लिए 22 रन की जरूरत थी। धोनी ने एक गेंद को लॉन्ग ऑन पर हिट किया और दो रन लेना चाहते थे लेकिन युवराज ने दूसरा रन लेने से मना कर दिया। उस वक्त धोनी युवराज पर गुस्सा हुए थे। इस पर युवराज ने भी नाराजगी जताई थी। 

2. वर्ष 2011-12 में ब्रिस्बेन में ऑस्ट्रेलिया के साथ हुए मैच में विकेटकीपर धोनी ने सुरेश रैना की गेंद पर माइक हसी की स्टंप के लिए अपील की। थर्ड अंपायर के आउट करार देने पर मैदानी अंपायर ने फैसला बदल दिया और धोनी गुस्से में आ गए थे। 

PunjabKesari

3. आईपीएल 2015 के दौरान चेन्नई सुपर किंग्स और राजस्थान रॉयल्स के बीच एमए चिदंबरम स्टेडियम में मैच के दौरान आखिरी ओवर में चेन्नई को 27 रन की जरूरत थी। गेंद ड्वेन ब्रावो के हाथ में थी। क्रिस मोरिस ने पहली ही गेंद को हिट किया, यह नो बॉल भी थी। गेंद छक्के पर चली गई। मौरिस ने अगली गेंद को मिड विकेट पर मारा। रवींद्र जडेजा ने गेंद को पकड़ने में ढीला रुख अपनाया और मौरिस ने दूसरा रन ले लिया। इस दौरान भी धोनी गुस्से में आ गए थे और जडेजा को यहां गुस्से भरी नजरों से देखा था। 

PunjabKesari

4. साल 2018 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टी20 के 19वें ओवर की पहली गेंद पर मनीष पांडे ने डेन पैटर्सन की गेंद पर सिंगल लिया। धोनी को लगा कि दो रन लिए जा सकते हैं और उन्होंने दूसरे रन के लिए पांडे को बुलाया, लेकिन पांडे ने ध्यान नहीं दिया। इस पर धोनी गुस्से में आ गए और कहा कि गेंद पर ध्यान दो ना कि कहीं और। 

PunjabKesari

5. श्रीलंका के खिलाफ खेले गए टी20 मैच में कुलदीप और चहल की जमकर धुनाई हो रही थी। कुलदीप को जब लगातार चौके-छक्के पड़ रहे थे तो धोनी उसके पास गए और कहा कवर्स हटाकर कवर्स डीप कर लो और प्वॉइंट ऊपर रख लो। इस पर  कुलदीप ने मना कर दिया। तब भी धोनी गुस्से में आ गए थे और कुलदीप से कहा था कि मैं पागल हूं यहां पर 300 वनडे खेला हूं। 

PunjabKesari

6. आईपीएल 2019 में चेन्नई सुपरकिंग्स और किंग्स इलेवन पंजाब के बीच हुए मुकाबले में पंजाब को जीत के लिए 12 गेंदों में 39 रन की जरूरत थी। धोनी ने गेंद दीपक चाहर को थमाई। दीपक ने पहली गेंद ही नो बॉल फेंकी। सरफराज ने इस गेंद पर चौका जड़ दिया। अगली गेंद भी नो बॉल थी। इस पर सरफराज ने 2 रन बनाए। धोनी इसके बाद सुरेश रैना के साथ गुस्से में दीपक चाहर के पास गए थे। 

PunjabKesari

7. आईपीएल 2019 में चेन्नई सुपर किंग्स और राजस्थान रॉयल्स के बीच चल रहे एक मैच के दौरान धोनी का गुस्सा लोगों ने देखा। चेन्नई को तीन गेंदों में 8 रन की जरुरत थी और बेन स्टोक्स की एक गेंद को अंपायर ने नो बॉल दे दिया। लेकिन स्क्वेयर लेग पर खड़े अंपायर ने उसे सही करार दिया। इसके बाद डगआउट में बैठे धोनी गुस्से में मैदान तक पहुंच गए और अंपायर से बहस करने लगे। 

.
.
.
.
.