Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : भारतीय क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज इरफान पठान आज अपना 35वां जन्मदिन मना रहे हैं। 27 अक्टूबर 1984 को गुजरात में जन्मे इरफान को 2003 में टेस्ट टीम में जगह मिली। अपनी स्विंग से बल्लेबाजों को चाैंकाने वाले इस गेंदबाज के शुरुआती करियर के 4 साल बेहद शानदार रहे, लेकिन कोई खास दिन रहा तो वो था 29 जनवरी 2006 का। इसी दिन इरफान ने अपनी पठानगिरी दिखाते हुए पाकिस्तान टीम के खिलाड़ियों को घूटने टेकने के लिए मजबूर कर दिया था। 

पहले ओवर में ही लगा दी थी हैट्रिक 

साल 2006 में भारतीय टीम तीन टेस्ट मैचों की सीरीज के लिए पाकिस्तान गई। इरफान ने 29 जनवरी को कराची के नेशनल स्टेडियम में हुए तीसरे टेस्ट मैच में हैट्रिक लगाकर वो कर दिखाया को आज तक कोई नहीं कर पाया। इरफान ने मैच के पहले ओवर की अंतिम तीन गेंदों पर लगातार तीन विकेट झटके और टेस्ट मैच के पहले ही ओवर में हैट्रिक लेने वाले विश्व के पहले गेंदबाज बने थे। 

उनहोंने पहली गेंद पर साल्मी बल्लेबाज सलमान भट्ट को स्लीप में कप्तान राहुल द्रविड़ के हाथों कैच आउट कराया था, जबकि दूसरी गेंद पर इरफान पठान ने यूनिस खान को एलबीडबल्यू और अपनी हैट्रिक गेंद पर मोहम्मद युसुफ को एक शानदार इन स्विंग गेंद पर क्लीन बोल्ड कर दिया था। इरफान पठान ने मैच की पहली पारी में 61 रन देकर 5 विकेट झटके थे। मगर भारतीय टीम यह मैच इरफान की शानदार और धारधार गेंदबाजी के बाद भी 341 रनों के विशाल अंतर से मैच हार गई थी।

PunjabKesari

ऐसे बर्बाद हुआ इरफान पठान का करियर 

टीम इंडिया के कोच रह चुके ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर ग्रेग चैपल ने पठान को बल्लेबाजी में टॉप ऑर्डर में खिलाना शुरू किया और यहीं से उनके करियर में भूचाल आ गया। बल्लेबाजी के चक्कर में पठान गेंदबाजी करना भी भूल गए और उन्हें टीम से बाहर होना पड़ा। फिर उसके बाद उनकी टीम में कभी वापसी नहीं हो सकी। हालांकि उन्होंने अबतक इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास नहीं लिया है। लेकिन पठान का अब टीम में आना नामुमकिन ही है। 

क्रिकेट करियर पर एक नजर 

दिसंबर 2003 में इरफान पठान ने 19 साल की उम्र में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एडिलेड ओवल में अपने इंटरनेशनल करियर की शुरुआत की। इस मैच में वह कुछ खास नहीं कर सके, इरफान ने 150 रन देकर एक विकेट लिया था। इरफान पठान 29 टेस्ट मैचों में 100 विकेट लिए और 31.57 की औसत से 1105 रन भी बनाए। जबकि 120 वनडे मैचों में 173 विकेट लिए और  23.39 की औसत से 1544 रन भी बनाए। इसके अलावा उन्होंने 24 टी-20 इंटरनेशनल मैचों में 28 विकेट लिए।

.
.
.
.
.