Sports

मेलबर्न: आलोचकों के निशाने पर चल रहे ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेटर से कमेंटेटर बने केरी ओकीफी ने रविवार को भारतीय प्रशंसकों और खिलाडिय़ों को खुला पत्र लिखकर तीसरे टेस्ट मैच के दौरान की गई अपनी विवादास्पद टिप्पणियों के लिए माफी मांगी। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच बॉक्सिंग डे टेस्ट मैच के दौरान अपनी नस्लवादी मजाकिया टिप्पणियों के कारण ओकीफी को काफी आलोचना झेलनी पड़ी। उन्होंने कहा कि उनके मजाक का गलत अर्थ निकाला गया और उनके इरादे भारतीय क्रिकेट का ‘अपमान’ करना नहीं था।
Sports news, Cricket news in hindi, Cricket Australia, Melbourne Test, commentator, Kerry O'keefe, Writing open letter, Indian fans and players, apologize, controversial comments
ओकीफी ने कहा कि कमेंट्री के दौरान की गई अपनी टिप्पणियों पर मिली प्रतिक्रियाओं से वह टूट गए हैं। उनकी टिप्पणियों को भारतीय प्रशंसकों और मीडिया ने अपमानजनक और यहां तक कि नस्ली करार दिया है। उन्होंने खुले पत्र में लिखा, ‘ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच हाल में समाप्त हुए तीसरे टेस्ट मैच के दौरान फॉक्स क्रिकेट पर अपनी टिप्पणियों पर मिली प्रतिक्रिया से मैं टूट चुका हूं। मैं इस बात पर आ रहा हूं कि किस तरह से इन शब्दों की नकारात्मक व्याख्या कर दी गई।’ ओकीफी ने कहा, ‘जिस तरह की व्याख्या की गई मैं वैसा नहीं हूं। कमेंट्री की मेरी शैली में गंभीर विश्लेषण के बीच में कुछ हल्की फुल्की टिप्पणियां करना शामिल है।’
Sports news, Cricket news in hindi, Cricket Australia, Melbourne Test, commentator, Kerry O'keefe, Writing open letter, Indian fans and players, apologize, controversial comments
इस कमेंटेटर ने भारत की तरफ से पदार्पण कर रहे मयंक अग्रवाल के रणजी ट्राॅफी में लगाए गए तिहरे शतक के बारे में कहा था कि उन्होंने शायद यह पारी ‘जालंधर रेलवे कैंटीन स्टॉफ’ के खिलाफ खेली थी। इसके लिए उनकी कड़ी आलोचना हुई। ओकीफी ने कहा, ‘मैं निश्चित तौर पर भारतीय क्रिकेट का अपमान नहीं कर रहा था जहां का मैंने स्कूली छात्र के रूप में दौरा किया था और जिसकी क्रिकेट प्रेमी देश के रूप में मेरे लिए सबसे बड़ी प्रेरणा है।’ चेतेश्वर पुजारा और रविंद्र जडेजा के नामों का मजाक उड़ाने पर भी ओकीफी की आलोचना हुई थी। उन्होंने इसके लिए भी माफी मांगते हुए कहा कि उनका इरादा इन दो दिग्गज खिलाडिय़ों का मजाक उड़ाना नहीं था। 

.
.
.
.
.