Sports

स्पोर्ट्स डेस्क: भारतीय टेस्ट टीम के सदस्य और ऑफ स्पिन गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन ने बचपन में हुए एक भयावह किस्से को शेयर किया है। अश्विन ने बताया कि बचपन में उन्हें विपक्षी टीम के खिलाड़ियों ने मैच न खेलने के लिए कहा था और कहा अगर मैं मैच खेलने के लिए जाता हूं तो वह मेरी उंगलियां काट देंगें।  

PunjabKesari

अश्विन ने एक इंटरव्यू के दौरान बचपन का किस्सा बताते हुए कहा कि मैं और मेरे दोस्तों को टेनिस बॉल टूर्नामेंट खेलने की आदत थी लेकिन मेरे पिताजी को यह बिल्कुल भी पसंद नहीं था। वह मुझे सड़कों पर भी खेलने के लिए मना करते थे। उन दिनों हमारी टीम फाइनल मैच खेलने वाली थी। हमारे यहां  रिवाज है कि लोग प्रतियोगिता जीतने पर गर्व करते हैं। मैं मैच के लिए निकलने वाला था तभी कुछ 4-5 लड़के रॉयल एनफील्ड्स पर आए जिनका अच्छा शरीर था। 

PunjabKesari

उन्होंने मुझे बैठाया और कहा कि हम जाने के लिए तैयार हैं। मैंने पूछा कौन? उन्होंने कहा कि क्या आप यहां मैच खेल रहे हैं ना? हम आपको लेने आए हैं। मैं उनकी रॉयल एनफील्ड पर उन दोनों के बीच में बैठ गया। मैं उस समय लगभग 14-15 साल का था और मुझे नहीं पता था कि वह कौन हैं।   

PunjabKesari

वे मुझे एक चाय स्टाल पर ले गए। उधर रिवाज है कि सभी मैदानों के बगल में एक चाय की दुकान जरूर होती है। उन्होंने मुझे वहां बैठाया और भज्जियों, वड़ो का ऑर्डर दिया। उन्होंने कहा डरो मत, हम यहां तुम्हारी मदद करने के लिए हैं लगभग साढ़े तीन या 4 बजे रहे थे और मैंने कहा कि मैच शुरू होने वाला है, चलिए चलते हैं। तो उन्होंने कहा कि नहीं, नहीं, हम विपक्षी टीम से हैं, हम तुम्हें खेलने से रोकना चाहते हैं। यदि तुम जाते हो और खेलते हो तो हम लोग तुम्हारी ऊंगलियां काट देंगें।”

.
.
.
.
.