Sports

कराची : वित्तीय रूप से स्थिर लीग के रूप में पाकिस्तान सुपर लीग (पीएसएल) टी-20 की प्रतिष्ठा को झटका लगा है क्योंकि छह फ्रेंचाइजियों ने टूर्नामेंट के पांचवें सत्र के लिए बैंक गारंटी जमा कराने से इनकार कर दिया है। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने टूर्नामेंट में हिस्सा लेने वाली फ्रेंचाइजियों के लिए अगले टूर्नामेंट की शुरुआत से 6 महीने पहले बैंक गारंटी देना अनिवार्य करा दिया है। 

फ्रेंचाइजी मालिकों ने हालांकि बोर्ड अध्यक्ष अहसान मनी और अधिकारियों के साथ बैठक के दौरान स्पष्ट कर दिया है कि बोर्ड जब तक पीएसएल के चौथे सत्र के पूर्ण आडिट खाते उनके पास नहीं भेज देता तब तक वे बैंक गारंटी नहीं सौंपेंगे। सूत्र ने कहा- अब तक पीसीएल ने खिलाडिय़ों और अधिकारियों के लिए बेहद स्थिर लीग के रूप में प्रतिष्ठा कमाई थी क्योंकि बोर्ड खिलाडिय़ों से सीधे संपर्क रखता था और उन्हें भुगतान करता था।

सूत्र ने कहा कि खिलाडिय़ों को भुगतान करने के लिए पीसीबी ने अतीत में एक या दो फ्रेंचाइजी की बैंक गारंटी भी भुनाई थी जब उन्होंने भुगतान में विलंब किया था। फ्रेंचाइजी और बोर्ड के बीच पिछले कुछ समय से तनावपूर्ण रिश्ते हैं क्योंकि फ्रेंचाइजी का मानना है कि पीसीएल अब सफल ब्रांड बन गया है और ऐसे में पहले 4 टूर्नामेंट में घाटे की भरपाई के लिए उन्हें राजस्व में अधिक हिस्सा मिलना चाहिए।

.
.
.
.
.