Sports
चेन्नई, चार जनवरी (भाषा) संजय कपूर को सोमवार को अखिल भारतीय शतरंज महासंघ (एआईसीएफ) के ऑनलाईन मतदान से हुए चुनावों में अध्यक्ष चुना गया, जबकि भरत सिंह चौहान सचिव पद को बरकरार रखने में सफल रहे।
उत्तर प्रदेश शतरंज संघ का प्रतिनिधित्व करने वाले कपूर ने करीबी मुकाबले में निवर्तमान अध्यक्ष पी आर वेंकटराम राजा को हराया। कपूर को राजा के 31 के मुकाबले 33 मत मिले। चौहान ने रवींद्र डोंगरे को 35-29 से हराया।

चौहान गुट से संबंध रखने वाले नरेश शर्मा को कोषाध्यक्ष चुना गया, जिन्होंने किशोर बांदेकर को 34-30 मतों से हराया।

पिछले काफी समय से एआईसीएफ दो गुटों में बंटा हुआ था, जिसमें एक का नेतृत्व राजा जबकि दूसरे की अगुवायी चौहान कर रहे थे। चुनाव कराने के साथ दोनों के बीच कई मुद्दों पर मतभेद चला आ रहा था।
दोनों गुटों ने पिछले डेढ़ साल में कई कानूनी लड़ाइयां लड़ी और ऐसे कई मामले आये जब अध्यक्ष और सचिव ने एक-दूसरे को अलग-अलग समय पर निलंबित कर दिया।

लंबे समय से चले आ रहे विवादों के बाद अदालत द्वारा नियुक्त पर्यवेक्षक न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) के कन्नन की देखरेख में चुनाव कराये गये। कोविड-19 महामारी के कारण चुनाव प्रक्रिया का ऑनलाइन आयोजन हुआ।
यह 2005 के बाद पहली बार है जब एआईसीएफ में पदों के लिए चुनाव हुए। पिछले 15 वर्षों में उम्मीदवारों को सर्वसम्मति से चुना गया था।

अध्यक्ष, सचिव और कोषाध्यक्ष के अलावा, छह उपाध्यक्ष और छह संयुक्त सचिव भी चुने गए।

कपूर ने कहा कि वह देश के शतरंज खिलाड़ियों और प्रशंसकों के लिए काम करेंगे।

उन्होंने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘हमने इतिहास रचा है। यह शतरंज के चाहने वालों की जीत है। यह शतरंज के खिलाड़ियों और प्रशंसकों के लिए एक नए युग की शुरुआत है।’’
चौहान ने कहा कि यह शतरंज और शतरंज खिलाड़ियों की जीत है क्योंकि उन्होंने खेल की बेहतरी के लिए काम करने का वादा किया था।

उन्होंने कहा, ‘‘ यह शतरंज और शतरंज के खिलाड़ियों की जीत है। हम एक साथ काम करने जा रहे हैं । हम उन दोस्तों के साथ भी काम करेंगे जो हमारे खिलाफ चुनाव लड़े। हम एक परिवार हैं। मैं उनसे शतरंज की खातिर मिलकर काम करने की अपील करता हूं।’’
उन्होंने कहा, ‘‘नया एआईसीएफ प्रगतिशील विचारों के साथ काम करेगा । यहां कोई दुश्मनी, कोई रंजिश नहीं होगी। हम शतरंज के लिए काम करने जा रहे हैं।’’


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।
.
.
.
.
.