Sports
नयी दिल्ली, 13 अक्टूबर (भाषा) भारतीय तैराकी महासंघ (एसएफआई) ने मंगलवार को कहा कि सभी राज्यों में अभ्यास के लिये तरणताल खुलने तक देश में किसी भी तरह की प्रतियोगिता का आयोजन संभव नहीं है।
पिछले महीने गृह मंत्रालय ने देश भर में 15 अक्टूबर से पेशेवर तैराकों के लिये तरणताल खोलने की घोषणा की थी।
कोविड-19 महामारी के कारण 24 मार्च से देश भर के तरणताल बंद पड़े हैं।

एसएफआई के कार्यकारी निदेशक वीरेंद्र नानावटी ने वर्चुअल संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘ पंद्रह अक्टूबर को सभी तरणताल नहीं खुलने जा रहे हैं। हो सकता है कि एक या दो तरणताल खुलें। तरणताल क्लबों, राज्य सरकारों आदि के अंतर्गत आते हैं इसलिए जब तक सभी राज्य तरणताल खोलने की अनुमति नहीं देते हैं तब तक राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं का आयोजन संभव नहीं है। ’’
उन्होंने कहा, ‘‘हमें अभी चार–पांच महीने तक इंतजार करना होगा और देखना होगा कि क्या प्रतियोगिताओं का आयोजन संभव है।’’
एसएफआई ने इसके साथ ही कहा कि खेल की सुरक्षित वापसी के लिये खेल मंत्रालय द्वारा तैयार की गयी मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) का उल्लंघन करने वाले तैराक के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
महासंघ के अध्यक्ष आर एन जयप्रकाश ने कहा, ‘‘तरणताल खुलने पर एसओपी का सख्ती से पालन किया जाएगा। हम इसमें जरा भी ढील नहीं देंगे। पहले ही हमारे तैराक कोविड-19 के कारण छह महीने से तरणताल से बाहर हैं। ’’
उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए हम एसओपी को हल्के से नहीं ले सकते। हम कहीं भी ढिलाई नहीं बरत सकते हैं। हम एसओपी को सख्ती से लागू करने के लिये राज्य इकाईयों से बात करेंगे। हम एसओपी का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की सिफारिश करेंगे। ’’
एसएफआई ने इसके साथ ही आस्ट्रेलियाई खेल शिक्षा और परामर्शदात्री कंपनी मोरगोल्ड के साथ भागीदारी की भी घोषणा की।


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।
.
.
.
.
.