Sports

विशाखापत्तनम : पिछले साल दिसंबर के बाद पहला टेस्ट खेल रहे रविचंद्रन अश्विन ने कहा कि पिछले 10 महीने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से दूर रहना उनके लिए इतना निराश था कि उन्होंने खेल देखना ही छोड़ दिया था। जुलाई 2017 से भारत के लिए सिर्फ टेस्ट क्रिकेट खेल रहे अश्विन ने छह से 10 दिसंबर तक आस्ट्रेलिया के खिलाफ एडीलेड टेस्ट खेला था। उसके बाद से वह 11 में से एक भी टेस्ट के लिए भारतीय टीम में नहीं रहे।

was so disappointed that had stopped watching the game : Ashwin

उन्होंने कहा कि क्रिकेट से दूर रहना मेरे लिए काफी कठिन था। मैंने इसकी भरपाई हर तरह के मैच खेलकर की। मैंने नाटिंघमशर में काऊंटी क्रिकेट खेला और टीएनपीएल मैच भी खेले। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले टेस्ट में 5 विकेट लेने वाले अश्विन ने कहा- हर बार जब भी मैं टीवी पर क्रिकेट देखता तो मुझे लगता कि मुझे खेलना है। उन्होंने कहा कि मैं बाहर था और ऐसा अनुभव होना स्वाभाविक है। मैं सिर्फ खेलना चाहता था। हर किसी के कैरियर में यह दौर आता है लेकिन यह अंत नहीं है। मैंने अपने जीवन में अलग अलग चीजें आजमाई।

was so disappointed that had stopped watching the game : Ashwin

फिटनेस मसलों के बारे में उन्होंने कहा- जहां तक चोट का सवाल है तो मेडिकल स्टाफ इसकी देखभाल के लिए है। मुझे अचानक ऐसा लगा कि मैं किसी भी प्रारूप में नहीं खेल रहा हूं। मैं लगातार 12 महीने खेल रहा था और कार्यभार बढऩे से ऐसा हुआ होगा। उन्होंने वापसी के बारे में कहा कि मुझे वापसी की खुशी है। देश के लिए एक पारी में 5 विकेट लेने से बेहतर कुछ नहीं है। यह जगह मेरे लिए खास है लेकिन मैंने नाटिंघम में भी 5 विकेट लिए। दोनों ही एक से बढ़कर एक हैं।

.
.
.
.
.