Sports

नई दिल्ली : आगामी एएफसी महिला एशियाई कप इतिहास रचने को तैयार हैं क्योंकि भारत में पहली बार इस महाद्विपीय प्रतियोगिता के क्वार्टर फाइनल चरण से वीडियो असिस्टेंट रैफरी (वीएआर) का इस्तेमाल किया जाएगा। टूर्नामेंट 20 जनवरी से छह फरवरी तक मुंबई, नवी मुंबई और पुणे तीन स्थलों में खेला जाएगा।

जनवरी 30 के बाद के मैचों में वीएआर का इस्तेमाल किया जाएगा। इस तरह यह वीएआर तकनीक टूर्नामेंट में पदार्पण करेगी। इसका इस्तेमाल छह को होने वाले फाइनल तक किया जायेगा। इस तकनीक के लिए कैमरा लगाने की तैयारी संबंधित स्थलों पर शुरू हो चुकी है। मैच के दिन स्टेडियम के अलावा रैफरियों के ट्रेनिंग स्थान पर भी इसी तरह का वीएआर ‘सेटअप’ लगाया जाएगा और ‘सिम्यूलेटरर्स’ रैफरियों के लिए उनके होटल में भी उपलब्ध होंगे।

एशियाई फुटबॉल परिसंघ (एएफसी) ने कहा कि एएफसी रैफरिंग के उच्चतम मानक सुनिश्चित करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहा है इसलिये देश में आधिकारिक रूप से वीएआर को पेश किये जाने से पहले ट्रेनिंग स्थलों और स्टेडियमों में कई तकनीकी परीक्षण किये जा रहे हैं। टूर्नामेंट के दौरान छह वीडियो मैच अधिकारी सात अलग लाइव कैमरा फीड देख पायेंगे। वीएआर चार वर्गों के फैसलों की समीक्षा कर सकता है जिसमें गोल/नो गोल, पेनल्टी/नो पेनल्टी, सीधे रेड कार्ड और गलत खिलाड़ी को लाल या पीला कार्ड देना शामिल है।

.
.
.
.
.