Sports

सैंटियागो (चिली) : संयुक्त राज्य अमरीका ने यहां पैन एम महिला हॉकी कप में पूल बी के मैच में कनाडा को 3-1 से हराकर लगातार दूसरी जीत दर्ज की। छह अंकों के साथ यूएस पूल बी में शीर्ष पर पहुंच गया। शुक्रवार को खेले गए मैच मे पहले तीन क्वार्टर में दोनों टीमों गोल करने में सफल नहीं हो सकीं। इसके बाद चौथे और अखिरी क्वार्टर में इस सीजन में चारों गोल किए गए। इनमें पेनल्टी कार्नर कन्वर्जन से 3 गोल शामिल हैं। कनाडा ने 48वें मिनट में पहला पेनल्टी कार्नर मिला और ब्रिएन स्टेयर्स ने इसे आसानी से गोल में तब्दील कर दिया। इसके बाद अमरीकी महिला टीम ने आक्रामक खेल दिखाया और 49 वें मिनट में पेनल्टी कार्नर हासिल कर लिया, जिसे रोज होप ने गोल में बदल कर स्कोर बराबर कर दिया। 

 

सफलता से उत्साहित होकर यूएसए ने दबाव बनाना शुरू और 57वें मिनट में सेसा एश्ले ने फील्ड गोल करके अपनी टीम को 2-1 की बढ़त दिलाई। इसके बाद कप्तान मगदान अमांडा ने 59वें मिनट में पेनल्टी कार्नर को गोल में बदलकर 3-1 की बढ़त बना ली। इस बीच रफ एंड टफ खेल खेलने वाली जोहानसन करली (59वें मिनट) और लेही कैथलीन (55वें मिनट) ने कनाडा के दोनों खिलाड़यिों को येलो काड्र्स से दंडित किया। जोहानसन कार्ली (48वें), वोंग एलिस (12वें) और ली एलिसन (37वें) को रफ प्ले के लिए ग्रीन कार्ड मिले, जबकि यूएसए के वोल्गेमुथ जिलियन को पीला कार्ड मिला।

 

वहीं पूल ए के मैच में अर्जेंटीना मेजबान चिली को 4-0 से हराकर पूल में 6 अंक लेकर शीर्ष पर है। मैच का पहला क्वाटर्र गोलरहित समाप्त हुआ। इसके बाद मारिया ग्रेनाटो ने 35वें मिनट (पेनल्टी कार्नर) और 59वें मिनट (फील्ड गोल) में दो गोल किए। इससे पहले एगोस्टिना अलोंसो ने 27वें मिनट में फील्ड गोल करके अर्जेंटीना को बढ़त दिलवा दी थी। अगस्टिना गोर्जेलनी ने 43वें मिनट में पेनल्टी स्ट्रोक को गोल में बदल कर अर्जेंटीना को 3-0 की बढ़त दिलाई।

 

पूल बी में अपना दूसरा मैच खेलते हुए त्रिनिदाद और टोबैगो ने दो गोल दाग कर पेरू को हराकर टूर्नमेंट में अपनी पहली जीत दर्ज की और तीन अंक हासिल किए। पहले हाफ के बिना गोल के समाप्त होने के बाद त्रिनिदाद एंड टोबैगो ने दो गोल दागे और विजेता बनकर उभरे। उन्हें पहली सफलता तब मिली जब 43वें मिनट में ओल्टन कैटियन ने फील्ड गोल किया। इसके बाज फेलिशिया किंग ने 58वें मिनट में फील्ड गोल करके त्रिनिदाद और टोबैगो की बढ़त को दोगुना कर दिया।

.
.
.
.
.