Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली और पूर्व अंडर-19 कप्तान पृथ्वी शाॅ से तुलना होने के बाद भारतीय क्रिकेटर उन्मुक्त चंद ने कहा कि कोहली और शॉ जैसे लोगों को बहुत जल्दी मौका मिल गया, लेकिन मेरा सफर अलग है। दिल्ली की टीम छोड़कर उत्तरांचल के कप्तान बनने के बाद उन्होंने ये बात कही। 2012 अंडर-19 वर्ल्ड कप में भारतीय टीम की अगुवाई करने वाले उन्मुक्त चंद के बारे में बहुत से लोगों का मानना था कि इसके बाद उसे भारतीय टीम में मौका मिलेगा लेकिन ऐसा हुआ नहीं और 7 साल बाद भी वह भारत की तरफ से खेलने का इंतजार कर रहे हैं। 

एक इंटरव्यू के दौरान उन्मुक्त चंद ने कहा कि अंडर-19 विश्व कप को 7 साल हो चुके हैं और बहुत कुछ बदल गया है। उन्होंने कहा कि मैं भाग्यशाली हूं जो अंडर-19 विश्व कप में भारत की और से कप्तानी करने का मौका मिला और हम खिताब जीते। यह मेरे लिए यादगार पल थे और हमेशा टॉप पर रहेंगे। उन्होंने कहा, 'अब समय आगे बढ़कर देश के लिए खेलना और परफोर्म करने का है। मैं अभी सिर्फ 26 का हूं व विश्वास है कि इंडिया के लिए खेलूंगा। 

उन्होंने कहा कि मैं किसी से तुलना नहीं करना चाहता। कोहली और शॉ जैसे लोगों को बहुत जल्दी मौका मिल गया, लेकिन मेरा सफर अलग है। उन्होंने कहा कि देश के लिए खेलना मेरा आखिरी सपना है जिसके लिए मैं कड़ी मेहनत भी कर रहा हूं।

.
.
.
.
.