Sports

अहमदाबाद : विपक्षी टीम के बल्लेबाजों के जोखिम मुक्त योजना अपनाने से राशिद खान को एक छोर को संभालने के लिए रक्षात्मक रणनीति का इस्तेमाल करने में मदद मिली है ताकि दूसरे छोर पर गेंदबाज आक्रामक गेंदबाजी करे। पांचवें आईपीएल सत्र में राशिद के ओवरों को प्रतिद्वंद्वी टीमों के बल्लेबाज जल्द से खत्म करने की कोशिश कर रहे हैं जबकि गुजरात टाइटंस के अन्य गेंदबाजों के खिलाफ तेजी से रन जुटाने के प्रयास कर रहे हैं। राशिद का 15 मैचों में इकोनोमी रेट 6.73 का है जो काफी प्रभावित करने वाला है। वह 18 विकेट लेकर सूची में नौंवे स्थान पर हैं। 

अफगानिस्तान के स्पिनर राशिद ने रविवार को होने वाले फाइनल से पहले कहा, ‘मेरी रणनीति प्ले-ऑफ में भी अलग नहीं रही। पूरे टूर्नामेंट में ऊर्जा और सोचने की प्रक्रिया यही रही है। लेकिन टीमें मेरे खिलाफ संभलकर खेल रही हैं। इसलिए मैं कसी गेंदबाजी करने की कोशिश कर रहा हूं जिससे दूसरे छोर पर गेंदबाज द्वारा विकेट झटकने का मौका भी बढ़ता है।’ उनकी गेंदबाजी में अहम चीज एक विशेष क्षेत्र में हिट करना है। 

राशिद ने फाइनल से पूर्व प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘भले ही यह लीग मैच हो या फिर नॉकआउट, मेरा दिमाग एक निश्चित क्षेत्र में गेंदबाजी पर लगा होता है और मैं कुछ भी अलग चीज नहीं आजमा रहा हूं। मेरा उद्देश्य दबाव बनाना है।’ राशिद ने साथ यह भी दिखाया है कि वह बल्लेबाजी में भी कमाल कर सके हैं, इस सत्र में 206 से ज्यादा के स्ट्राइक रेट से वह नौ छक्के जड़ चुके हैं। निश्चित रूप से जब एक और हुनर निखर जाये तो आत्मविश्वास में बढ़ोतरी होती ही है, विशेषकर इस सत्र में दो करीबी मैचों की जीत में अहम योगदान करने के बाद। 

राशिद ने कहा, ‘मैं पहले जिस बल्लेबाजी क्रम में बल्लेबाजी कर रहा था, उससे ऊपर बल्लेबाजी की। दूसरी चीज आत्मविश्वास है। कोचिंग स्टाफ, कप्तान और सभी खिलाड़ियों ने आत्मविश्वास बढ़ाया है। उन्हें भरोसा था कि मैं शानदार प्रदर्शन कर पाऊंगा। बतौर खिलाड़ी आपको इसी तरह की ऊर्जा की जरूरत होती है और मुझे यही दी गई।’ बल्कि वह नेट पर काफी अभ्यास करते हैं। उन्होंने कहा, ‘इस सत्र में मैंने काफी बल्लेबाजी अभ्यास किया है, जो पहले से कहीं अधिक था। हर किसी को मुझ पर भरोसा था कि यह खिलाड़ी कर सकता है और टीम के लिये महत्वपूर्ण रन जोड़ सकता है।’ 

राशिद ने साथ ही टीम के साथी डेविड मिलर की भी प्रशंसा की और कहा कि उनकी वजह से शीर्ष क्रम का काम आसान हो जाता है। उन्होंने कहा, ‘डेविड का टीम में होना, जो मध्यक्रम में फॉर्म में हो और रन जुटा रहा हो तो इससे शीर्ष क्रम का काम आसान हो जाता है। टी20 में चौथा, पांचवां और छठा स्थान महत्वपूर्ण होता है और अगर इस क्रम पर खिलाड़ी फॉर्म में हो तो इससे मैच जीतने में मदद मिलती है और लक्ष्य क्या है इससे फर्क नहीं पड़ता।’ 

.
.
.
.
.