Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : भारत और इंग्लैंड के बीच गुलाबी गेंद से खेले गया तीसरा टेस्ट मैच मात्र दो दिन में खत्म हो गया। 2 दिन में मैच खत्म हो जाने से कई पूर्व खिलाड़ियों ने इस पिच को लेकर सवाल उठाए और कहा कि यह पिच टेस्ट मैच के लिए सही नहीं है। वहीं पिच पर उठाए जा रहें सवालों पर कई खिलाड़ियों का मानना है कि बल्लेबाज खराब हुई है। अब इस मुद्दे पर पूर्व भारतीय दिग्गज खिलाड़ी सुनील गावस्कर ने बयान दिया है। गावस्कर ने कहा कि पिच की इतनी आलोचना करना ठीक नहीं है। 

गावस्कर ने कहा कि इस दुनिया में हर किसी की अपनी राय है। जब पिच पर हो रही आलोचनाओं को देखते हैं तो आपको लगता कि पिच की कुछ अधिक आलोचना की जा रही है, जो ठीक नहीं है। इंग्लैंड के पूर्व खिलाड़ी जियोफ्री बायकॉट, नासिर हुसैन और माइक अर्थटन ने सही कहा। लेकिन उनके बाद किसी की आलोचना ठीक नहीं थी।

गावस्कर ने कहा कि यह पिच ऐसी नहीं थी जहां गेंद खराब उछाल ले रही थी और ना ही इस पिच पर कुछ गलत हुआ है। इस पिच पर उछाल ठीक था। हां इस पिच पर गेंद टर्न ले रही थी लेकिन एक टेस्ट मैच के बल्लेबाज को इन चीजों से निपटना आना चाहिए। उन्हें टर्न और सीधी गेंद को इन पिच पर खेलना आना चाहिए। 

गावस्कर ने कहा कि अगर आप सभी बल्लेबाजों के आउट होने के तरीके को देखें तो इसमें उनकी ही गलती दिखाई देगी। इसमें पिच का कोई दोष नहीं है। यह सिर्फ मानसिकता है जो उन्होंने करके दिखाया। रोहित शर्मा ने टेस्ट मैच की दोनों पारियों में अच्छी बल्लेबाजी की और उन्होंने बताया कि इस पिच पर कैसे रन बनाए जा सकते हैं। 

.
.
.
.
.