Sports

नई दिल्ली : खेल मंत्रालय ने लंबे समय से किडनी की बीमारी से पीड़ित हॉकी ओलंपियन मोहिंदर पाल सिंह के इलाज के लिए 10 लाख रुपये जारी किये। वह फिलहाल डायलिसिस पर हैं। यह रकम खिलाडिय़ों के लिए पंडित दीनदयाल उपाध्याय राष्ट्रीय कल्याण कोष के तहत स्वीकृत कर उनकी पत्नी शिवजीत सिंह को दी गई।

सिंह को वित्तीय सहायता देने के निर्णय के बारे में खेल मंत्री किरेन रीजीजू ने कहा- एमपी सिंह जी ने एक खिलाड़ी और कोच दोनों के रूप में हॉकी में समृद्ध योगदान दिया है। उनकी शारीरिक स्थिति हम सभी के लिए बहुत चिंता का विषय है। उन्होंने कहा- किडनी का इलाज महंगा है और हम उन्हें यथासंभव आर्थिक सहयोग देना चाहते थे।

रीजीजू ने कहा- मैंने नोएडा के संसद सदस्य महेश शर्मा जी से भी बात की है, जहां एमपी सिंह जी रहते हैं और उनके कार्यालय से एक पत्र प्रधानमंत्री राहत कोष को भी भेजा गया है ताकि अस्पताल के खर्चों का भुगतान कोष के माध्यम से किया जा सके।

खेल मंत्री ने हाल ही में शिवजीत सिंह और कई अन्य दिग्गज हॉकी खिलाडिय़ों से मुलाकात कर उन्हें मंत्रालय से सहायता का आश्वासन दिया था। भारतीय हॉकी टीम के कोच रहे एमपी सिंह एक शानदार खिलाड़ी भी थे। उन्होंने 1988 ओलंपिक सहित कई अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में देश का प्रतिनिधित्व किया था।

.
.
.
.
.