Sports

विशाखापत्तनम : दक्षिण अफ्रीका के अनुभवी तेज गेंदबाज वर्नन फिलेंडर का कहना है कि भारत के खिलाफ मजबूत वापसी के लिए सीनियर प्लेयरों को ही आगे आकर युवाओं का मार्गदर्शन करना होगा। डेल स्टेन और मोर्ने मोर्कल की मौजूदगी वाली तेज गेंदबाजी तिकड़ी का फिलेंडर 58 टेस्ट में 21.64 के शानदार औसत के साथ 214 विकेट चटका चुके हैं। फिलेंडर ने भारत के खिलाफ मैच दौरान कहा कि एबी डिविलियर्स तथा हाशिम अमला जैसे सीनियर खिलाडिय़ों के संन्यास लेने से ड्रेसिंग रूम में शून्य पैदा हो गया है। 

South African bowler rabada reveals the biggest weakness of the team

फिलेंडर ने साफ कहा कि मैं यह नहीं कहूंगा कि अब हमारी टीम कमजोर है। काफी खिलाड़ी सामने आ रहे हैं और कई खिलाड़ी टीम में जगह बनाने की कोशिश में लगे हैं। ऐसे में इन खिलाडिय़ों को सहारा देने के लिए किसी न किसी को आगे आना होगा। फिलेंडर ने कहा- हम सभी के करियर में कभी ना कभी ऐसा समय आता है जब हमें वह करना होता है जो निजी तौर पर आपके लिए सर्वश्रेष्ठ है। आपको इन फैसलों का सम्मान करना होगा लेकिन मुझे लगता है कि हमारी व्यवस्था से अब भी स्तरीय खिलाड़ी आ रहे हैं।

South African bowler rabada reveals the biggest weakness of the team

फिलेंडर ने सीनियर खिलाडिय़ों से अपील की कि वे काऊंटी क्रिकेट की सुरक्षा या टी-20 लीग की चमक-धमक चुनने की जगह खेल को कुछ वापस दें। इस तेज गेंदबाज ने कहा कि हालांकि मैं चाहूंगा कि अधिक सीनियर खिलाड़ी संन्यास के बाद खेल को कुछ वापस दें। टीम को फिलहाल अनुभवी लोगों की जरूरत है। निजी तौर पर युवा खिलाडिय़ों के मेंटर के रूप में मेरी भी बड़ी भूमिका है और मैं इसका लुत्फ उठा रहा हूं।

.
.
.
.
.