Sports

म्यूनिख : युवा निशानेबाज मनु भाकर ने आईएसएसएफ विश्व कप की महिला 10 मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा में चौथे स्थान पर रहते हुए भारत के लिए निशानेबाजी में सातवां ओलंपिक कोटा हासिल किया। 17 साल की मनु ने फाइनल में 201.0 अंक के साथ भारत को तोक्यो 2020 ओलंपिक का कोटा दिलाया। हालांकि वह मामूली अंतर से पदक जीतने से चूक गई। यह भारतीय निशानेबाज जब पदक की दौड़ से बाहर हुई तब वह ओलंपिक और विश्व चैंपियन यूनान की अना कोराकाकी से सिर्फ 0.1 अंक पीछे थी। 

शीर्ष वैश्विक प्रतियोगिताओं में कई पदक जीत चुकी मनु क्वालीफिकेशन में 582 अंक के साथ तीसरे स्थान पर रही थी। उन्होंने अंतिम दो दौर में 98 अंक जुटाए। सोमवार को मनु को निराशा हाथ लगी थी जब शीर्ष पर रहने के दौरान उनकी बंदूक खराब हो गई और उन्हें पांचवें स्थान से संतोष करना पड़ा। महिला 10 मीटर पिस्टल में यह भारत का पहला कोटा है। 

सौरभ चौधरी और अभिषेक वर्मा ने क्रमश: दिल्ली और बीजिंग में विश्व कप के साथ पुरुष 10 मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा में ओलंपिक कोटा हासिल किए। जूनियर विश्व कप चैंपियन यशस्विनी सिंह देसवाल भी फाइनल में जगह बनाने की राह पर थी लेकिन अंतिम सेट में में 92 अंक के साथ वह 574 अंक के साथ 22वें स्थान पर खिसक गईं। स्पर्धा में हिस्सा ले रही तीसरी भारतीय हीना सिद्धू 570 अंक के साथ 45वें स्थान पर रहीं। 

स्वर्ण पदक जीतने वाली कोराकाकी और कांस्य पदक विजेता कोरिया की किम मिनजुंग कोटा हासिल करने की दौड़ में नहीं थी जिसके बाद इस स्पर्धा से दो कोटा चीन की रजत पदक विजेता कियान वेई और मनु को मिले। कोराकाकी ने 241 .4 अंक के साथ स्वर्ण जीता जबकि कियान 239 .6 अंक के साथ रजत पदक जीतने में सफल रही। किम ने 220 .8 अंक जुटाए। भारत मौजूदा विश्व कप से दो कोटा हासिल कर चुका है। टीम ने अब तक तीन स्वर्ण पदक जीते हैं और पदक तालिका में शीर्ष पर चल रही है जबकि प्रतियोगिता में अब सिर्फ एक दिन बचा है। सुनिधि चौहान ने महिला 50 मीटर राइफल थ्री पोजीशन में कड़ी चुनौती पेश की लेकिन पहली बार आईएसएसएफ विश्व कप के फाइनल में जगह बनाने से चूक गई क्योंकि उन्होंने 10 अंक के अंदरूनी हिस्से में कम निशाने लगाए थे। 

फाइनल में जगह बनाने के लिए सुनिधि को शीर्ष 8 में जगह बनानी थी। उन्होंने क्वालीफिकेशन में 1175 अंक जुटाए जो छठे, सातवें और आठवें स्थान पर रही निशानेबाजों के बराबर थे लेकिन इटली की पूर्व विश्व चैंपियन पेत्रा जुब्लेसिंग ने उन्हें अंतिम स्थान की दौड़ में पछाड़ दिया। पेत्रा ने 10 अंक के अंदरूनी हिस्से में 57 जबकि सुनिधि ने 51 निशाने लगाए। भारत की एन गायत्री और काजल सैनी 1162 और 114 अंक के साथ क्रमश: 52वें और 70वें स्थान पर रहीं। पुरुष 25 मीटर रेपिड फायर पिस्टल में अर्पित गहलौत ने क्वालीफिकेशन में 21वें स्थान पर रहते हुए भारतीय निशानेबाजों के बीच सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया। आदर्श सिंह 41वें जबकि अनीश भानवाला 47वें स्थान पर रहे। 

.
.
.
.
.