Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर का कहना है कि अगर रोहित शर्मा ने ऑस्ट्रेलिया दौरे पर अच्छा प्रदर्शन किया तो टीम इंडिया में एक बार फिर से कप्तानी बंटने की रााह खुल जाएगी। आईपीएल के पांच खिताब जीत चुके रोहित के लिए पहले से ही कप्तानी की मांग उठ रही है। अगर वह ऑस्टे्रलिया में सफल रहे तो यह उनकी किसी एक फॉर्मेट में कप्तानी की राह आसान कर देगी। 

Shoaib Akhtar, Rohit sharma, Virat Kohli, Split Captaincy Calls, शोएब अख्तर, रोहित शर्मा, Cricket news in hindi, Sports news

भारतीय टीम में कप्तानी के लिए कॉल बढ़ रहे हैं क्योंकि रोहित ने पांचवां आईपीएल तो जीता ही साथ ही कोहली की अनुपस्थिति में भारत को एशिया कप खिताब दिलाया। हालांकि अजिंक्य रहाणे अभी टेस्ट के उप-कप्तान हैं, लेकिन अख्तर एडिलेड ओवल में पहले टेस्ट के बाद रोहित को कोहली से नेतृत्व की जिम्मेदारी लेते हुए देख रहे हैं। 

Shoaib Akhtar, Rohit sharma, Virat Kohli, Split Captaincy Calls, शोएब अख्तर, रोहित शर्मा, Cricket news in hindi, Sports news

शोएब अख्तर ने कहा- मेरी इस मुद्दे पर कॉल बहुत सरल है। मैं जानता हूं कि विराट टीम को आगे ले जाने के लिए बहुत उत्सुक हैं। यह सब इस बात पर निर्भर करता है कि वह कैसा महसूस कर रहा है। वह 2010 से नॉन-स्टॉप खेल रहा हैं। वह 70 शतक लगा चुका है। अगर वह थकावट महसूस कर रहा है, तो उसे रोहित को एक प्रारूप (एकतरफा टी-20) में नेतृत्व की भूमिका देने के बारे में सोचना चाहिए।

Shoaib Akhtar, Rohit sharma, Virat Kohli, Split Captaincy Calls, शोएब अख्तर, रोहित शर्मा, Cricket news in hindi, Sports news

शोएब अख्तर ने कहा- मैंने आईपीएल के दौरान उनके चेहरे पर थोड़ा तनाव देखा। हो सकता है कि यह जैव-बुलबुला की स्थिति के कारण हो। लेकिन यह सब इस बात पर निर्भर करता है कि वह कैसा महसूस करता है। रोहित थोड़ी देर के लिए कप्तानी के लिए तैयार है। यह सीरीज एक सलामी बल्लेबाज के रूप में रोहित की विदेशी परिस्थितियों में पहली सीरीज होगी। उन्हें पैट कमिंस, मिशेल स्टार्क और जोश हेजलवुड की पसंद का सामना करने के लिए कड़ी मेहनत करनी होगी।

Shoaib Akhtar, Rohit sharma, Virat Kohli, Split Captaincy Calls, शोएब अख्तर, रोहित शर्मा, Cricket news in hindi, Sports news

शोएब अख्तर ने कहा-  रोहित भारत के सबसे महान बल्लेबाजों में से एक हैं। अब वह अपनी प्रतिभा का वास्तविक मूल्य भी समझते हैं। वहीं, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खुद को कप्तान के रूप में साबित करने का सबसे अच्छा मौका होगा। उसे दोनों हाथों से पकडऩा चाहिए। उसके पास टीम का नेतृत्व करने की प्रतिभा और क्षमता है। यह भारत के लिए एक कठिन परीक्षा होगी और मैं एक खिलाड़ी के तौर पर इस तरह की परिस्थितियों की तलाश करूंगा।

.
.
.
.
.