Sports

कैनबरा : शार्दुल ठाकुर पिछले कुछ वर्षों से भारतीय टीम में अंदर बाहर होते रहे हैं लेकिन जब भी विराट कोहली उन्हें गेंद सौंपते हैं तो उनका अच्छा करने का दृढ़संकल्प कम नहीं हुआ है। पहले दो वनडे में ठाकुर नहीं खेले थे लेकिन अंतिम मैच में उन्होंने तीन विकेट चटकाकर प्रभावित किया जिसमें फार्म में चल रहे स्टीव स्मिथ का विकेट भी शामिल था। 

यह पूछने पर कि क्या वह ज्यादा मौके नहीं मिलने से हताश होते हैं तो महाराष्ट्र के 29 साल के खिलाड़ी ने नकारात्मक जवाब देते हुए कहा कि चयन मेरे हाथ में नहीं है। यह महत्वपूर्ण है कि मैं भारत के लिए जब भी खेलूं तो मैचों में जीत दिलाने की कोशिश करूं। मेरे दिमाग में यही होता है। वर्ष 2017 में अंतरराष्ट्रीय पदार्पण के बाद शार्दुल ठाकुर ने सफेद गेंद से 27 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं। 

शार्दुल ने कहा कि मैं जीतने के लिए खेलता हूं। मुझे नहीं लगता कि मुझे सिर्फ एक ही मैच मिल रहा है या फिर मैं किसी चोटिल खिलाड़ी की जगह खेल रहा हूं। एक बार जब आप मैदान में होते हो तो सभी खिलाड़ी सिर्फ मैच जीतने पर ध्यान लगाते हैं। टीम काफी लंबे समय पहले ही चुन ली गई थी। मैं टी20 टीम का हिस्सा नहीं था इसलिए मैं इसके बारे में नहीं सोच रहा था। 
 

.
.
.
.
.